तीन तलाक को खत्म करने के लिए बिल लोकसभा में पेश, ओवैसी ने जताया विरोध

ओवैसी का कहना है कि ये बिल मौलिक अधिकारों के खिलाफ है

तीन तलाक को खत्म करने के लिए बिल लोकसभा में पेश, ओवैसी ने जताया विरोध

तीन तलाक खत्म करने का बिल संसद में पेश हुआ है, जिसके खिलाफ नेता ओवैसी ने विरोध जताया है। इस बिल में तीन तलाक को असंवैधानिक बताया गया है। ओवैसी का कहना है कि ये बिल मौलिक अधिकारों के खिलाफ है।

इस विधेयक के कानूनी जामा पहनते ही किसी भी रूप में एक साथ तीन तलाक का सहारा लेने वालों को तीन साल तक की सजा भुगतनी होगी। जहां कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, वाम दलों सहित कई पार्टियां इस बिल के खिलाफ एकजुट हो गई हैं, वहीं सरकार ने इसे लैंगिक न्याय, समानता और महिलाओं की गरिमा का मुद्दा बताते हुए विरोध की परवाह न करने का दो टूक संदेश दिया है।

सुप्रीम कोर्ट के तीन तलाक को असंवैधानिक ठहराने के बाद सरकार ने इसे दंडनीय अपराध की श्रेणी में लाने के लिए बिल पेश करने का मन बनाया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली मंत्रिमंडलीय समिति ने इस बिल को तैयार किया है। लोकसभा में इसे कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद पेश करेंगे। हालांकि सरकारी सूत्रों ने बिल को पेश करने के बाद संसदीय समिति को भेजे जाने की संभावना से इनकार नहीं किया है।

advt
Back to top button