मेलानिया और इवांका के दबाव में ट्रंप ने बदली प्रवासी नीति

वाशिंगटन।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी विवादित प्रवासी नीति को वापस ले लिया है. बताया जा रहा है ट्रंप पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों और कानून निर्माताओं की तरफ से लगातार बनाए जा रहे दबाव के कारण अपना फैसला वापस लेने पर मजबूर हुए.

बता दें कि सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नई प्रवासी नीति पर हस्ताक्षर किए थे. इसके तहत अमरीका की सीमा में अवैध तरीके से घुसने वालों पर आपराधिक मामला दर्ज कर उन्हें जेल में डाल दिया जाता था. ऐसे प्रवासियों को उनके बच्चों से भी मिलने नहीं दिया जाता और उन्हें अलग कर दिया जाता.

अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश करने वाले प्रवासी परिवारों के बच्चों को बाड़े में रखने की तस्वीरें सामने आने के बाद से दुनियाभर में ट्रंप के फैसले के प्रति रोष देखने को मिल रहा था. एक सूत्र के मुताबिक ट्रंप के करीबी लोगों खास तौर पर उनकी पत्नी मेलानिया और बेटी इंवाका ट्रंप ने उनपर इस फैसले को वापस लेने का दबाव बनाया था.

सूत्र ने बताया कि ट्रंप को समझ में आ गया था कि इस फैसले से उन्हें बड़ी राजनीतिक समस्या का सामना करना पड़ सकता है. वह अपनी नीति पर मीडिया के नकारात्मक कवरेज को लेकर भी पूरी तरह से जागरूक थे.

व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने कहा कि मिलानिया और इवांका ने उन्हें बताया कि इस समस्या पर काम करने की जरूरत है. मीडिया जिस तरह से ट्रंप के फैसले की आलोचना कर रहा था, मिलानिया ने उन्हें उससे भी सतर्क किया था कि यह उनके लिए अच्छा काम नहीं करेगा. बताया जा रहा है कि ट्रंप के कई करीबियों और मित्रों ने भी उन्हें फोन करके सचेत किया कि यह फैसला उन्हें राजनीतिक रूप से चोट पहुंचा रहा है.

बता दें कि बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका-मैक्सिको सीमा पर प्रवासी परिवारों को अलग करने की कार्रवाई पर रोक लगाने वाले एक शासकीय आदेश पर हस्ताक्षर किए. हस्ताक्षर करने के बाद कहा कि यह आदेश परिवारों को एक साथ रखने के बारे में है. मुझे परिवारों का बिछड़ना अच्छा नहीं लगता.

Back to top button