भारत जैसे देशों को खुद वैक्सीन उत्पादन में सक्षम बनाने की कोशिश कर रहे हैं: बाइडन

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि वह भारत और अन्य देशों की मदद कर रहा है ताकि वे कोविड-19 रोधी टीकों का निर्माण खुद कर पाएं.

व्हाइट हाउस में मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में बाइडन ने कहा कि विश्व में टीकों की कई अरब खुराकों की जरूरत है और अमेरिका करीब आधा अरब खुराक उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध है.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘हम टीकों की आधा अरब खुराक उपलब्ध कराने को प्रतिबद्ध हैं. हम भारत जैसे देशों को स्वयं टीका उत्पादन में सक्षम बनाने की कोशिश कर रहे हैं.. हम इस काम में उनकी मदद कर रहे हैं. इस समय हम यही कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हम कोशिश कर रहे हैं और इसके लिए किसी से किसी भी तरह का भुगतान नहीं लिया जा रहा. हम जितना हो सकता है उतना करने की कोशिश कर रहे हैं.’

बाइडन ने कहा कि कोविड-19 से निपटने की इस लड़ाई में अमेरिका ‘हथियार रूपी टीकों का भंडार’ बनने को तैयार है, जैसे द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान यह लोकतंत्र का शस्त्रागार था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

बाइडन ने कहा कि जून में अपनी यूरोप यात्रा के दौरान उन्होंने घोषणा की थी कि अमेरिका ‘फाइज़र’ के टीके की 50 करोड़ खुराक खरीदेगा और उसे लगभग सौ निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों को दान देगा. इन खुराकों को महीने के अंत में भेजना शुरू किया जाएगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button