जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर हुए ड्रोन अटैक में दो ड्रोन का हुआ था इस्तेमाल

विस्फोट गिराने के बाद हैंडलर्स ने इन ड्रोन को वापस बुला लिया

श्रीनगर:जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर हुए ड्रोन अटैक में दो ड्रोन का इस्तेमाल हुआ था. सरकार से जुड़े सूत्रों ने को बताया है कि इन ड्रोन के जरिए ही विस्फोटक गिराए गए.

हालांकि, स्टेशन के अंदर विस्फोटक गिराने वाले दो ड्रोन के कोई भी टुकड़े या निशान नहीं मिले हैं. इससे ऐसा माना जा रहा है कि विस्फोट गिराने के बाद हैंडलर्स ने इन ड्रोन को वापस बुला लिया हो.

इस मामले की जांच कर रही एजेंसियों को ड्रोन के बारे में कोई सुराग नहीं मिला है. अब एजेंसियां सीसीटीवी फुटेज के जरिए ड्रोन को ट्रेस करने की कोशिश कर रहीं हैं. एजेंसियों का कहना है कि अब ये बात काफी हद तक कन्फर्म हो चुकी है कि ड्रोन को आसपास के इलाके से ही लॉन्च किया गया था. इस हमले के लिए जिन ड्रोन्स का इस्तेमाल हुआ है, वो छोटे क्वाडकॉप्टर्स हैं. इस बात की भी आशंका जताई जा रही है कि आतंकियों ने ड्रोन के एयरबेस के पास से ही लॉन्च किया हो.

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक सूत्रों का कहना है कि हमले के लिए छोटे ड्रोन्स का ही इस्तेमाल किया गया, क्योंकि अगर बड़े ड्रोन होते तो वो रडार में पकड़ में आ सकते थे. हालांकि, अभी भी जांच जारी है और जांच पूरी होने के बाद ही दावे के साथ कुछ कहा जा सकता है. एयरफोर्स स्टेशन पर हमले के बाद आतंकियों के ऐसे किसी भी हमले को रोकने के लिए सभी एयरबेस को अलर्ट पर रखा गया है.

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर शनिवार-रविवार देर रात दो धमाके हुए थे. पहला धमाका रात 1:37 बजे हुआ और दूसरा ठीक 5 मिनट बाद 1:42 बजे हुआ था. वायुसेना के मुताबिक, दोनों ही धमाकों की इंटेसिटी बहुत कम थी और पहला धमाका छत पर हुआ, इसलिए छत को नुकसान पहुंचा था, जबकि दूसरा धमाका खुली जगह पर हुआ था. धमाके में दो जवानों को भी मामूली चोटें आई थीं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button