NSG कमांडो समेत दो की मौत, लालकृष्ण आडवाणी की सुरक्षा में थे तैनात

शहर के जेएमपी फ्लाइओवर पर दीपावली की रात एक दर्दनाक सड़क हादसे में एनएसजी में तैनात 31 वर्षीय पोरेस बिरुली और उसके ममेरे भाई की मौत हो गई. पोरेस बिरुली फिलहाल पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी की सुरक्षा में तैनात थे. वह दिल्ली से छुट्टी पर अपने घर चाईबासा आये थे. पोरेस बिरुली का गांव चाईबासा सदर थाना अंतर्गत डिलियामार्चा है. वह अपने ममेरे भाई 27 वर्षीय राजा तियू के साथ बाइक पर सवार होकर जा रहे थे. वर्तमान में पोरेस बिरुली लालकृष्ण आडवाणी के पृथ्वीराज रोड बंगले में उनकी सुरक्षा में तैनात थे. पोरेस बिरूली दीपावली की छुट्टी में गुरुवार को ही दिल्ली से चाईबासा पहुंचे थे. इसके बाद अपने ममेरे भाई राजा तियु के साथ चाईबासा घूमने के लिए आये हुए थे.

घटना की जानकारी मिलते ही उनकी पत्नी शुरू बिरूली, बहन और भाई के साथ-साथ गांव के लोग सदर अस्पताल पहुंच गये. पोरेश की दो बेटियां हैं. एक सात साल की और दूसरी 4 साल की. पोरेश बिरूली की पत्नी झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी में प्रोग्राम ऑफिसर के रूप में कार्यरत हैं. उन्होंने बताया कि गुरुवार की शाम को उनके पति 3 दिन की छुट्टी पर घर आये. थोड़ी देर घर में रहने के बाद मामा के लड़के के साथ दीपावली देखने के लिए चाईबासा शहर आ गये. रात करीब 10 बजे फोन पर उनसे बात भी हुई, उन्होंने थोड़ी देर में घर लौट आने की बात कही. लेकिन पूरी रात कोई पता नहीं चला. सुबह दुर्घटना के बारे में जानकारी मिली.

जानकारी के अनुसार दोनों बाइक सवार दीपावली की रात करीब 10-11 बजे के बीच फ्लाइओवर से गुजर रहे थे. इसी क्रम में एक भारी वाहन की चपेट में आने के कारण उन्होंने संतुलन खो दिया और फ्लाइओवर पर ही दोनों बाइक सहित काफी घिसटते चले गये. हेलमेट नहीं पहने होने के कारण उनके सिर पर गंभीर चोट आयी और घटनास्थल पर ही दोनों की मौत हो गयी. हादसे के समय शहर में दीपावली को लेकर शहर में नो एंट्री लगी थी. इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों में पुलिस प्रशासन के खिलाफ काफी आक्रोश है. पुलिस दोनों युवकों के शव को सदर अस्पताल स्थित पोस्टमार्टम हाउस ले गयी. दोनों की पहचान होने के बाद उनके परिजन सदर अस्पताल पहुंचे और पोस्टमार्टम की प्रक्रिया शुरू की गयी. हादसे के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button