छत्तीसगढ़

बेटे को नौकरी लगवाने के चक्कर में गंवाए दो लाख स्र्पये

ब्यूरो चीफ :- विपुल मिश्रा

बिलासपुर : खाद्य विभाग में बेटे की नौकरी लगवाने के चक्कर में वृद्ध ने दो लाख स्र्पये गंवा दिए। पीड़ित ने घटना की शिकायत सरकंडा थाने में की है। इस पर पुलिस धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

सरकंडा के अरविंद नगर निवासी जगदीश प्रसाद पांडेय(61 वर्ष) ने अपनी शिकायत में बताया कि मंगला निवासी पूर्णानंद द्विवेदी उनका पूर्व परिचित है। पूर्णानंद ने उन्हें खाद्य विभाग में ऊंची पहुंच की बात कही थी। साथ ही खाद्य विभाग ने उनके बेटे की नौकरी लगाने का झांसा दिया था। इसके लिए चार लाख स्र्पये की मांग की थी। युवक के झांसे में आकर वृद्ध ने वर्ष 2018 में दो लाख स्र्पये एडवांस में दिए।

इसके बाद युवक नौकरी लगाने के नाम पर वृद्ध को घुमाता रहा। दो साल तक नौकरी नहीं लगने पर जून 2020 में वृद्ध ने अपने स्र्पये वापस मांगे। इस पर पूर्णानंद ने दो लाख का चेक दे दिया। बैंक में लगाने पर चेक बाउंस हो गया। इस पर वृद्ध ने मामले की शिकायत सरकंडा थाने में की। शिकायत पर सरकंडा पुलिस जुर्म दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।
आरक्षक की नौकरी लगाने ठगी

मस्तूरी क्षेत्र में आरक्षक की नौकरी लगाने के नाम पर युवक ने अपने साथियों के साथ मिलकर दो लाख की धोखाधड़ी की है। नेवारी निवासी हरिशंकर डहरिया ने बताया कि उसकी पहचान डोडकी निवासी कमल सोनवानी से थी। कमल ने 2019 में उसे पुलिस विभाग में आरक्षक की नौकरी लगाने की बात कही थी। इसके बाद कमल ने अपने साथियों सुरजीत सोनवानी, सुचित्र सोनवानी और रायपुर निवासी क्रांति ठाकुर से उसकी मुलाकात कराई। इस दौरान सुरजीत और उसके साथियों ने ऊंची पहुंच का झांसा दिया।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button