यात्रियों के लियें खोलेंगे दो नये टिकट घर, निजी हाथों में होगी संचालन की जिम्मेदारी

पवन चतुर्वेदी :

बिलासपुर :

रेलवे ने लोगों की सुविधा के लिए शहर की दो जगहों पर यात्री टिकट सुविधा केंद्र खोलने का निर्णय लिया है। इसके संचालन की जिम्मेदारी निजी हाथों में होगी। बदले में रेलवे उससे सिक्युरिटी डिपाजिट लेगी।

इस केंद्र के खुलने के बाद लोगों को रेलवे के आरक्षण केंद्र में जाने की आवश्यकता नहीं होगी। घर के नजदीक ही उन्हें आरक्षण टिकट की सुविधा मिल जाएगी। साथ ही जनरल टिकट भी जारी होंगे। जल्द टेंडर निकालकर इच्छुक से लोगों से आवेदन मंगाए जाएंगे।

रेलवे की यह सुविधा कुछ शहरों में शुरू हो चुकी है। इनमें बिलासपुर रेल मंडल अंतर्गत के शहर भी शामिल हैं। बिलासपुर में इसकी शुरुआत नहीं हो पाई थी। यहां केवल जनसाधारण टिकट काउंटर खुल पाए हैं जहां केवल जनरल टिकट जारी होते हैं।

अब रेलवे की ओर से यात्री टिकट सुविधा केंद्र खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए कोई भी आवेदन कर सकता है। बशर्ते रेलवे के कुछ नियम व शर्तें होंगी जिनका उन्हें पालन करना होगा। इनमें सबसे प्रमुख सिक्युरिटी डिपाजिट करनी होगी। इसके लिए लगभग पांच से छह लाख रुपये निर्धारित है।

साथ ही संचालक को बिल्डिंग की व्यवस्था खुद करनी होगी। रेलवे की यह पहली सुविधा है जहां दोनों टिकट एक साथ जारी होंगे। कम्प्यूटर से लेकर अन्य उपकरण भी संचालक को खुद खरीदने होंगे। इस सुविधा से आम जनता को सबसे ज्यादा फायदा होगा। अभी उनके पास तीन विकल्प हैं।

इनमें उसलापुर, तहसील कार्यालय परिसर व जोनल स्टेशन स्थिति आरक्षण केंद्र है। यहां भीड़ के कारण यात्रियों को परेशानी होती है। जोनल स्टेशन के पीआरएस में तो टोकन सिस्टम है। इसके कारण नंबर आने तक इंतजार करना पड़ता है। इस सुविधा केंद्र से घर के नजदीक से रिजर्वेशन व जनरल टिकट मिल जाएंगे। इसके अलावा भी कुछ और शर्तें हैं जिन्हें टेंडर निकालते समय दर्शाया जाएगा।

इन सुविधा केंद्रों से जारी टिकटों का रंग रेलवे के टिकट काउंटर से जारी टिकटों से अलग गुलाबी रंग के होंगे। इससे पहचान करने में आसानी होगी। इसकी सप्लाई रेलवे करेगी। इसके अलावा जनरल व रिजर्वेशन में दोनों में कमीशन तय होगा। संभवतः जनरल में दो रुपये और रिजर्वेशन में प्रति व्यक्ति 30 रुपये कमीशन तय किया जाएगा।

Back to top button