छत्तीसगढ़

राजनांदगांव जिले के पास आठ-आठ लाख रुपये की दो इनामी महिला नक्सली ढेर

मारी गई नक्सलियों में एक छत्तीसगढ़ के बीजापुर और दूसरी महाराष्ट्र के गढ़चिरौली की रहने वाली थी।

रायपुर। Anti Naxalite Operation: बीती रात राजनांदगांव जिले की सीमा से लगे मध्यप्रदेश के बालाघाट में मुठभेड़ में पुलिस ने दो इनामी महिला नक्सलियों को मार गिराया। पुलिस ने हथियार समेत दोनों महिला नक्सलियों का शव बरादम कर लिया है। दोनों पर आठ-आठ लाख रुपए का इनाम था। मारी गई नक्सलियों में एक छत्तीसगढ़ के बीजापुर और दूसरी महाराष्ट्र के गढ़चिरौली की रहने वाली थी।

आंतरिक सुरक्षा सलाहकार के. विजय कुमार ने तीन दिन पहले ही यहां छत्तीसगढ़ से लगे मध्यप्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्र के आला पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर नक्सलियों के खिलाफ आक्रमक रणनीति तय की थी। पुलिस इसे बड़ी सफलता के रूप में देख रही है। बालाघाट को मध्यप्रदेश का सर्वाधिक नक्सल प्रभावित क्षेत्र माना जाता है। सुरक्षा बलों ने नक्सल मोर्चे में बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए दो महिला नक्सलियों को मार गिराया है।

बीती रात करीब 11.30 बजे के करीब लांजी पुलिस डिवीजन के किरनापुर के जंगल में पुलिस ने आठ-आठ लाख रुपए के दो इनामी महिला नक्सलियों को ढेर कर दिया। बताया गया कि रात में गश्त में निकले बालाघाट पुलिस के जवानों का मलाजखंड दलम के नक्सलियों के साथ आमना-सामना हो गया। पुलिस को देखकर नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में जवानों ने भी नक्सलियों पर गोलीबारी की। करीब घंटेभर चली मुठभेड़ के बाद नक्सली घने जंगल का फायदा उठाकर भाग गए।

बीजापुर व गढ़चिरौली की रहने वाली

घटनास्थल का मुआयना करने पर दो महिला नक्सलियों का शव मिला। मारी गई महिला नक्सलियों की शिनाख्त सावित्री उर्फ आयते (24) और शोभा पति उमेश गावड़े (30) के रूप में पुलिस ने की है। सावित्री के शव के पास से पुलिस ने एक इंसास रायफल भी बरामद की है। सावित्री मूल रूप से छत्तीसगढ़ के बीजापुर के गंगालूर क्षेत्र की रहने वाली थी। वह मलाजखंड दलम में एरिया कमेटी सदस्य के रूप में सक्रिय थी।

इसी तरह शोभा गढ़चिरौली की रहने वाली है। वर्तमान में वह मलाजखंड दलम की एरिया कमेटी मेंबर के रूप में सक्रिय थी। इससे पहले वह दर्रेकसा दलम की भी सदस्य रही है। पुलिस ने उसके शव के पास से 12 बोर की एक बंदूक बरामद की है। दोनों महिला नक्सलियों के पास से कुछ और सामान पुलिस ने बरामद किया है।

दो साल में पांच ढेर

बीते दो वर्ष में बालाघाट पुलिस को नक्सलियों के खिलाफ अभियान में पांच बड़ी सफलताएं मिल चुकीं हैं। नक्सलियों को सिलसिलेवार मारने में कामयाब मिल रही है। बालाघाट रेंज के आईजी व्येंकटेश्वर राव के नेतृत्व में बीते दो साल में पुलिस ने पांच नक्सलियों के शव बरामद किए हैं। हाल ही में एक हार्डकोर नक्सली को पुलिस ने जिंदा गिरफ्तार किया है।

इससे नया काडर बनाने की फिराक में लगे नक्सलियों की कमर टूटती नजर आ रही है। नक्सलियों के खिलाफ बालाघाट पुलिस लगातार आक्रमक कार्रवाई कर रही है। आईजी ने बताया कि नक्सलियों से बार-बार आत्मसमर्पण करने के लिए अपील की जा रही है, लेकिन पुलिस मुठभेड़ में नक्सली मारे जा रहे हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button