गंभीर शिकायत मिलने पर दो अधीक्षिकाओं को भेजा उनके मूल सस्था में

कलेक्टर एल्मा ने औचक निरीक्षण में देखीं अव्यवस्थायें

नारायणपुर: कलेक्टर पदुम सिंह एल्मा ने प्री-मैट्रिक कन्या छात्रावास बाकुलवाही और कन्या आश्रम झारावाही की दो अधीक्षिकाओं भानुमती नायक एवं रामबती कवाची को कार्य के प्रति उदासीनता एवं लापरवाही के चलते उनके मूल संस्था स्कूल शिक्षा में भेज दिया है। उनके स्थान पर कन्या छात्रावास बाकलुवाही में रेवती मेड़िया और आश्रम झारावाही में धनेश्वरी नाग सहायक शिक्षक (एल.बी.) को अधीक्षिका का दायित्व सौंपा गया है।

बतादें कि दोनों अधीक्षिकाओं की काफी दिनों से गंभीर शिकायतें मिल रही थी। बच्चों के साथ भी उनकी भाषा शैली एवं व्यवहार भी ठीक नहीं था। इसकी शिकायत भी मिल रही थी। कलेक्टर पी. एस. एल्मा ने विगत दिवस दोनों छात्रावास और आश्रमों का औचक निरीक्षण किया था। उन्हें निरीक्षण के दौरान आश्रम-छात्रावास में काफी अव्यवस्थायें मिली। गंदगी एवं साफ-सफाई पर ध्यान नहीं दिया जा रहा था। शौचालय की व्यवस्था भी ठीक नहीं पायी गई। कलेक्टर के निर्देश पर आदिवासी विकास विभाग के आयुक्त के.एस.मसराम ने तत्काल कार्रवाई करते हुए दोनों अधीक्षिकाओं को तत्काल प्रभाव से बदल दिया है।

Back to top button