अंतर्राष्ट्रीय

UAE और Bahrain ने Israel के साथ प्रस्तावित शांति समझौते पर किया हस्ताक्षर

ट्रंप ने इस समझौते को ‘नए मध्य पूर्व की शुरुआत’ बताया

अमीरात: संयुक्त अरब अमीरात (UAE) और बहरीन (Bahrain) की सरकारों के प्रतिनिधि और इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू की मौजूदगी में इजराइल (Israel) के साथ प्रस्तावित ऐतिहासिक शांति समझौते पर हस्ताक्षर हुआ.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस समझौते को ‘नए मध्य पूर्व की शुरुआत’ बताया और कहा कि इससे दुनिया के एक अहम हिस्से में अब शांति स्थापित की जा सकेगी. ट्रंप ने समझौते पर दस्तख़त का एक वीडियो शेयर किया और लिखा, ‘दशकों के विभाजन और संघर्ष के बाद आज हमने एक नए मिडिल ईस्ट की शुरुआत की है.

इजराइल, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन के लोगों को बधाई. भगवान आप सबका भला करे.’

ट्रंप ने मंगलवार को कार्यक्रम में शरीक़ होने व्हाइट हाउस पहुंचे लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘आज दोपहर हम यहां इतिहास बदलने आए हैं. इजराइल, यूएई और बहरीन अब एक दूसरे के यहां दूतावास बनाएंगे, राजदूत नियुक्त करेंगे और सहयोगी देशों के तौर पर काम करेंगे. वो अब दोस्त हैं.’

ईरान और फिलीस्तीन नाराज़उधर यूएई और बहरीन के इजराइल के साथ हुए इस शांति समझौते पर ईरान, तुर्की और फिलिस्तीन ने कड़ा ऐतराज जाहिर किया है. यूएई और बहरीन 1948 में इजराइल की स्थापना के बाद उसे मान्यता देने वाले तीसरे और चौथे अरब देश बन गए हैं.

पिछले महीने संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई भी इजराइल के साथ अपने रिश्ते सामान्य करने पर सहमत हुआ था. अब ऐसा माना जा रहा है कि ओमान भी ऐसा कर सकता है. उधर फिलीस्तीन के लोगों ने अरब देशों से अपील की है जब तक फिलीस्तीन और इजराइल के बीच विवाद का हल नहीं निकल जाता, उन्हें इंतज़ार करना चाहिए

समझौते का स्वागत

इजराइल के प्रधानमंत्री बेंज़ामिन नेतन्याहू ने भी इस समझौते का स्वागत किया. उनहोने कहा, ‘आज इतिहास के करवट की दिन है. ये शांति की नई सुबह लेकर आएगा.’ फिलीस्तीन के नेता महमूद अब्बास ने कहा कि मध्य पूर्व में शांति तभी आ सकती जब इसराइल वहां क़ब्ज़ा की गई जगहों से पीछे हट जाएगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button