UGC NET 2018: महिला ने नहीं उतारा हिजाब, तो अधिकारियों ने परीक्षा में जानें से रोका

पणजी में 18 दिसंबर को जब वह परीक्षा केंद्र पर पहुंची तो पर्यवेक्षक ने उनसे हिजाब हटाने के लिए कहा

नई दिल्ली। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की ओर से यूजीसी नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट में जबरन हिजाब उतवाने और परीक्षा में बैठने ना देने का मामला सामने आया है.

24 साल के एक महिला ने आरोप लगाए हैं कि जब उसने हिजाब उतारने से इंकार किया तो उसे परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी गई. वहीं, अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने चोरी रोकने की वजह से यह फैसला लिया.

बहरहाल अधिकारियों ने कहा कि परीक्षा में चोरी रोकने और सुरक्षा के अन्य मुद्दों को देखते हुए हिजाब और अन्य चीजों की अनुमति नहीं है.

सफीना खान सौदागर ने आरोप लगाए हैं कि पणजी में 18 दिसंबर को जब वह परीक्षा केंद्र पर पहुंची तो पर्यवेक्षक ने उनसे हिजाब हटाने के लिए कहा. सौदागर ने बताया कि जब उसने ऐसा करने से इंकार किया तो उन्होंने उसे परीक्षा में बैठने नहीं दिया गया.

सौदागर ने यह भी बताया कि वो मंगलवार को परीक्षा केंद्र पर दोपहर एक बजे पहुंची और कतार में खड़ी हो गई जब उम्मीदवारों के पहचान पत्र की जांच प्रक्रिया शुरू हुई.

उन्होंने कहा, ‘जब मैं पर्यवेक्षण अधिकारी के पास पहुंची तो उन्होंने मेरे दस्तावेज देखे, मुझे देखा और हिजाब उतारने के लिए कहा. उन्होंने कहा कि हिजाब के साथ मैं परीक्षा हॉल में नहीं जा सकती.’

महिला ने अधिकारी से कहा कि वह हिजाब नहीं हटा सकती, क्योंकि यह धार्मिक परम्परा के विपरीत है. उन्होंने कहा कि इसके बाद अधिकारी ने कहा कि हिजाब के साथ वह परीक्षा केंद्र के अंदर जाने की अनुमति नहीं दे सकते. बता दें कि यूजीसी की नेट परीक्षा का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) करा रही है.

new jindal advt tree advt
Back to top button