ब्रिटेन हाई कोर्ट ने विजय माल्या की इस अर्जी को अंतरिम तौर पर किया रिजेक्ट

इसी भारतीय एजेंसियों की बड़ी जीत माना जा रहा

लंदन: ब्रिटेन हाई कोर्ट ने लंदन स्थित एक बैंक के खाते में जमा रकम से संबंधित आदेश को निरस्त करने की भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की अर्जी को अंतरिम तौर पर रिजेक्ट कर दिया. इसी भारतीय एजेंसियों की बड़ी जीत माना जा रहा है.

कई कानूनी लड़ाइयों में उलझा माल्या

अदालत के इस निर्णय से भारतीय बैंकों के ग्रुप को जमा 2,60,000 पाउंड की राशि से वसूली करने से रोकने का माल्या का एक और प्रयास विफल हो गया है. माल्या ब्रिटेन में कई कानूनी लड़ाइयों में उलझा है. हाई कोर्ट के मास्टर डेविड कुक ने व्यवस्था दी कि एसबीआई और अन्य बैंकों के पक्ष में जारी अंतरिम ऋण आदेश कायम रहेगा.

इन खातों में जमा राशि फ्रीज रहेगी

इससे भारतीय बैंक माल्या के आईसीआईसीआई यूके में स्थित इस खाते पर हाथ रख सकेंगे. हालांकि, इस अपील पर अंतिम आदेश माल्या की लंबित दिवाला याचिका पर सुनवाई के बाद दिया जाएगा. ऐसे में इन खातों में जमा राशि फ्रीज रहेगी. पिछले साल भारतीय बैंकों के पक्ष में वैश्विक स्तर पर खातों को फ्रीज या उन पर रोक लगाने का आदेश दिया गया था.

माल्या के वकीलों ने कई कारण गिनाते हुए इस अंतरिम आदेश को रद्द करने की अपील की थी. उन्होंने दलील दी कि यह माल्या को उचित तरीके से जीवनयापन के खर्च से रोकने का जानबूझकर किया गया प्रयास है.

Back to top button