छत्तीसगढ़

छतरी वाली क्लास …यहां बच्चे ऐसे करते हैं पढ़ाई

मैनपुर: आदिवासी विकासखण्ड मैनपुर क्षेत्र में बदहाल शिक्षा व्यवस्था से बारिश के दिनों में इन जर्जर स्कूल भवनों में जान जोखिम मे डालकर बच्चे पढ़ाई करने मजबूर हो रहे हैं।
जानकारी के अनुसार तहसील मुख्यालय मैनपुर से 7 किलोमीटर दूर ग्राम बोईरगांव स्थित शासकीय मिडिल स्कूल भवन इतना जर्जर हो चला है। यहां के छत से बारिश का पानी झरने की तरह कमरे की अंदर बहता है। मजबूरन यहां के बच्चों को बारिश होने पर कमरे के भीतर छाता तानकर पढ़ाई करना पड़ता है।

तीन कमरों में से दो कमरों में लगती है क्लास
माध्यमिक शाला की दर्ज संख्या 81 है। स्कूल के तीन कमरों में से दो कमरों में बच्चों की कक्षाएं लगती है। एक कमरा शिक्षक रूम है, लेकिन तीनों कमरे में बारिश का पानी झरने की तरह बहता है। हालत ऐसी है कि स्कूल भवन में एक अतिरिक्त कमरा है, लेकिन इस कमरे में 81 बच्चों को एक साथ नहीं बिठाया जा सकता, इसलिए जर्जर पानी बहते कमरे में में बच्चों को छाता लेकर बैठाया जाता है।

इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी एसएल ओंगरे ने कहा कि स्कूल भवन की मरम्मत जल्द करवाई जाएगी। स्थानीय शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया जाएगा कि अतिरिक्त कमरे स्कूल भवन में कक्षा संचालित कराई जाए।