ओपीजेयू के फेस्ट ‘टेक्नोरोलिक्स- 2K19’ में पहुंचे उमेश पटेल

उच्च शिक्षा मंत्री के द्वारा 41 लाख रुपये की छात्रवृत्ति और पुरस्कार वितरण, ओपीजेयू मे तीन-दिवसीय नेशनल लेवल ‘टेक्नो-मैनेजमेंट’ फेस्ट ‘टेक्नोरोलिक्स- 2K19 ’

रायगढ़ : ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी, रायगढ़ मे आयोजित राष्ट्रीय स्तर का तीन-दिवसीय ‘टेक्नो- मैनेजमेंट’ महोत्सव ‘टेक्नोरोलिक्स-2 K 19’ , 22 फरवरी को 41 लाख रुपये की छात्रवृत्ति और लगभग दो लाख रूपये के पुरस्कार वितरण के साथ सम्पन्न हुआ। तीन दिनो तक चले ‘टेक्नोरोलिक्स’ की 28 प्रतियोगिताओ मे ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी एवं अन्य संस्थानों के लगभग 700 छात्रों ने हिस्सा लेकर अपनी ज्ञान और प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

एक ओर जहां टेक लैब, जंक यार्ड एवं टेक-डॉक्स आदि तकनीकी प्रतियोगताओं मे छात्रों ने अपने तकनीकी कौशल का लोहा मनवाया, वही नुक्कड़ नाटक और शो-केश मे अपनी सोच और वैयक्तिक प्रतिभा का प्रदर्शन किया।फैशन शो एवं ग्रांड-ए-रोलिक्स मे छात्रों ने अपने- अपने पारम्परिक परिधान के प्रदर्शन तथा नृत्य और संगीत से सभी दर्शकों को अभिभूत किया; तथा रोडीज़ मे साहस और चतुराई से सभी दर्शकों का दिल जीत लिया।

22 फरवरी की शाम को ‘टेक्नोरोलिक्स’ के समापन समारोह का आयोजन किया गया, जिसमे उमेश पटेल, माननीय उच्च शिक्षा मंत्री, छत्तीसगढ़ शासन मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॉ आर. डी. पाटीदार ने मुख्य अतिथि उमेश पटेल, माननीय उच्च शिक्षा मंत्री, छत्तीसगढ़ शासन, विशिष्ट अतिथि लैलूंगा विधानसभा क्षेत्र के विधायक चक्रधर सिंह सिदार एवं अन्य सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी द्वारा कम समय में प्राप्त की गयी उपलब्धियों एवं शिक्षा के क्षेत्र में इसके द्वारा किये जाने वाले महती प्रयासों के बारे में बताया।

सम्माननीय अतिथि डॉ एस. के. मिस्र, आईएएस एवं पूर्व मुख्य सचिव, छत्तीसगढ़ शासन ने सभी छात्रों को टेक्नोरॉलिक्स के सफल आयोजन के लिए बधाई देते हुए कहा की हार्डवर्क का कोई भी विकल्प नहीं होता और इस तरह के टेक-फ़ेस्ट छात्रों को कड़ी परिश्रम करने की प्रेरणा देते हैं और उन्हें एक कुशल प्रोफेसनल बनाते हैं। ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी के चांसलर प्रवीण पुरांग ने यूनिवर्सिटी की सफलताओं की बात करते हुए आने वाले समय में यूनिवर्सिटी द्वारा किये जाने वाले विशेष कार्यों के बारे में अपने विचार साझा किये।

उन्होंने छात्रों से कहा की यह यूनिवर्सिटी उनके लिए वह हर प्रयास करने के लिए प्रतिबद्ध है जिनसे उनकी सफलता सुनिश्चित हो सके। समापन समारोह के मुख्य अतिथि उमेश पटेल, माननीय उच्च शिक्षा मंत्री, छत्तीसगढ़ शासन ने ‘टेक्नोरोलिक्स-2 K 19’ आयोजकों को बधाई देते हुए कहा की ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी में यह उनका प्रथम आगमन है और सुदूर स्थान में स्थित इस यूनिवर्सिटी की प्रगति से वह बेहद खुश हैं।

उन्होंने छात्रों के द्वारा बनाए गए टेक्निकल मॉडेल्स की तारीफ करते हुए कहा की इस इनोवेशन की प्रक्रिया को सतत बनाए रखें जिससे आपके ज्ञान का उपयोग सामाजिक हित मे हो सके। पटेल जी ने छत्तीसगढ़ शासन द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किये जाने वाले प्रयासों तथा आने वाले समय में सभी उच्च शिक्षा संस्थानों में छात्रों की सहायता के लिए ‘स्टूडेंन्ट सेल’ की स्थापना किये जाने, जिससे छात्रों को उनके द्वारा चाही गयी जानकारी एक सप्ताह में मिल सकेगी, के बारे में बताया।

समापन समारोह के दौरान मुख्य अतिथि उमेश पटेल जी के द्वारा यूनिवर्सिटी की ओर से छात्रों को प्रतिवर्ष दी जाने वाली छात्रवृत्तियोँ एवं विशेष पुरस्कारों का वितरण किया गया। इस वर्ष यूनिवर्सिटी द्वारा 159 छात्रों को कुल लगभग 41 लाख रुपए की छात्रवृत्तिया- एंट्री लेवेल स्कालरशिप तथा मेरिट-कम-मीन्स स्कालरशिप प्रदान की गयी। इन छात्रवृत्तियों का उद्देश्य अध्ययन मे श्रेष्ठ छात्रों को प्रोत्साहित करना तथा पढ़ाई मे अच्छे किन्तु आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को सहायता प्रदान करना है।

प्रबंधन की ओर से पूरे सत्र मे छात्रों द्वारा किए गए अच्छे कार्यो तथा उनकी उपलब्धियों को भी पुरष्कृत किया गया। उच्च शिक्षा मंत्री जी की उपस्थिति में [email protected] एवं ओपी जिंदल यूनिवर्सिटी, रायगढ़ के मध्य हस्ताक्षरित एमओयू आदान-प्रदान किये गए। ज्ञातव्य हो की [email protected] छत्तीसगढ़ में एंटरप्रेंयूर्शिप डेवलपमेंट के लिए छत्तीसगढ़ शासन की एक नोडल एजेंसी है। इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट के एसोसिएट डीन डॉ एस. नायक, सभी प्राध्यापकगण एवं कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

समापन समारोह के अंत में यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग के डीन डॉ पी. एस. बोकारे द्वारा मुख्य अतिथि, सभी सम्माननीय अतिथियों एवं सभी प्रतिभागियों के प्रति अपना अमूल्य समय प्रदान कर सफल बनाने के लिए आभार प्रदर्शित करते हुए धन्यवाद ज्ञापन किया। पुरस्कार वितरण के पश्चात छात्रों द्वारा नृत्य-संगीत की रंगारंग प्रस्तुति दी गयी।

Back to top button