उमेश बने सबसे कम उम्र के मंत्री, जानिए उनसे जुड़ी 10 बातें

रायपुर।

रायगढ़ जिले की हाई प्रोफाइल सीट खरसिया से दूसरी बार विधायक बने उमेश पटेल को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। खरसिया विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के ओमप्रकाश चौधरी को हराकर विधानसभा में दूसरी बार पहुंचे उमेश पटेल को मंत्री का पद मिला है। मंत्री बनाए जाने के बाद उमेश ने कहा कि हाईकमान और मुख्यमंत्री के निर्देश पर उन्हें जिन विभागों की जिम्मेदारी सौंपी जाएगी, वे उसे पूरी निष्ठा के साथ निभाएंगे। उमेश मूल रूप से रायगढ़ जिले के नंदेली गांव के रहने वाले हैं।

उमेश पटेल से जुड़ी 10 बातें-

उमेश के पिता नंदकुमार पटेल कांग्रेस के दिग्गज नेता थे। वे प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भी थे।
झीरम घाटी हमले में पिता की मौत के बाद उमेश ने कार्पोरेट कंपनी की बड़ी नौकरी छोड़कर राजनीतिक विरासत संभाली।
उमेश ने आईटी में इंजीनियरिंग की डिग्री ली है।
वे राज्य के नवगठित मंत्रिमण्डल में सबसे कम उम्र के मंत्री हैं। उमेश की उम्र अभी 35 वर्ष है।
अब उमेश मूल रूप से खेती के कारोबार से जुड़े हुए हैं।
उमेश पटेल 2018 के विधानसभा चुनाव में ओपी चौधरी को हराकर जीते, ओपी चौधरी प्रदेश के चर्चित आईएएस ऑफिसर थे।
साल 2013 में सुधा पटेल से उनकी शादी हुई।
उमेश साल 2013 में भी विधायक रहे हैं।
उन्होंने 2013 में भाजपा के जवाहरलाल नायक को हराकर विधानसभा में अपनी जगह बनाई थी।
विधायक रहने के दौरान वे सरकारी उपक्रम संबंधि समिति, पुस्तकालय समिति और महिलाओं और बालिकाओं के कल्याण संबंधि समितियों में बतौर सदस्य काम का अनुभव रखते हैं।

new jindal advt tree advt
Back to top button