यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने घटाई कर्ज दरें, MCLR में 0.20 प्रतिशत की कटौती की

बैंक आमतौर पर हर महीने एमसीएलआर की समीक्षा करते हैं।

नई दिल्ली। यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने शुक्रवार को अपने सभी अवधि के लिए कोष पर सीमांत लागत आधारित ब्याज दर Marginal Cost of fund based Lending Rate) में 20 आधार अंकों की कटौती करने की घोषणा की है। नई दरें शनिवार से लागू हो जाएंगी। इस कटौती के बाद सभी अवधि के कर्ज पर एमसीएलआर दर 6.85 प्रतिशत से लेकर 7.40 प्रतिशत तक हो जाएगी।

बैंक ने बताया कि एक साल की अवधि के कर्ज पर एमसीएलआर दर 7.60 प्रतिशत से घटकर 7.40 प्रतिशत हो जाएगी। संशोधित एमसीएलआर 11 जुलाई 2020 से प्रभावी होगी। यह जुलाई 2019 के बाद बैंक द्वारा घोषित लगातार 13वीं कटौती है। बैंक आमतौर पर हर महीने एमसीएलआर की समीक्षा करते हैं।

पिछले कुछ समय से बैंक लगातार अपनी कर्ज दरों में कटौती कर रहे है। इसी हफ्ते ही स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने MCLR दरों में कटौती की है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने गुरुवार को ही छोटी अवधि के लिए MCLR को 5 से 10 आधार अंक घटाने का ऐलान किया है।

नई दरें आज से लागू हो गई हैं। एसबीआई के मुताबिक 3 महीने के लिए MCLR घटकर 6.65 फीसदी के स्तर पर आ गई है। बेंगलुरू स्थित केनरा बैंक ने एक साल के एमसीएलआर को घटाकर 7.55 प्रतिशत कर दिया है जो पहले 7.65 प्रतिशत थी। वहीं बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने एक साल के एमसीएलआर को 0.20 प्रतिशत कम कर 7.50 प्रतिशत कर दिया है। अब तक यह 7.70 प्रतिशत थी। यह लगातार चौथा महीना रहा है जब बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने एमसीएलआर घटायी है

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button