केन्‍द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मेघालय दौरे के दूसरे दिन सोहरा में पौधरोपण किया

उन्‍होंने देशवासियों से आग्रह किया कि वे इन प्रयासों में बलों की मदद करें।

DELHI: केन्‍द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मेघालय दौरे के दूसरे दिन पारिस्थितिकी पुनर्जीवित करने संबंधी सोहरा वनरोपण परियोजना के भाग के तौर पर वाहशारी, सोहरा यानी पूर्ववर्ती चेरापूंजी में पौधरोपण किया।

गृहमंत्री के साथ पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्री जी0 किशन रेड्डी, केन्‍द्रीय विज्ञान और प्रोद्योगिकी मंत्री डॉक्‍टर जितेन्‍द्र सिंह, केन्‍द्रीय पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास राज्‍य मंत्री बी0 एल0 वर्मा और मेघालय के मुख्‍यमंत्री कोनराड के0 संगमा तथा राज्‍य सरकार के अन्‍य अधिकारी भी मौजूद थे।

इस अवसर पर श्री अमित शाह ने कहा कि आगामी दिनों में देश के विभिन्‍न अर्द्धसैनिक बलों के जवान एक करोड़ से ज्‍यादा पौधे लगायेंगे। उन्‍होंने देशवासियों से आग्रह किया कि वे इन प्रयासों में बलों की मदद करें।

उन्‍होंने यह भी कहा कि मेघालय सरकार, पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय और पूर्वोत्‍तर परिषद के सहयोग से 50 करोड़ रूपये की अनुमानित लागत के साथ सोहरा में सौ हैक्‍टेयर बंजर भूमि को वनभूमि के रूप में परिवर्तित करेगी।

गृहमंत्री ने बताया कि अगले तीन वर्षों में इस इलाके में एक हजार हैक्‍टेयर क्षेत्र में दस लाख वृक्ष लगाये जायेंगे। उन्‍होंने आशा व्‍यक्‍त की कि मुख्‍यमंत्री कोनराड के0 संगमा के नेतृत्‍व में यह परियोजना सफल होगी और सोहरा यानी चेरापूंजी एक बार फिर से वह स्‍थान बन जायेगा जहां सबसे ज्‍यादा वर्षा होती है।

अमित शाह ने कहा कि स्‍थानीय प्रशासन और स्‍थानीय सरकार की सक्रिय भागीदारी के बिना ग्‍लोबल वार्मिंग के विरूद्ध लडाई संभव नहीं है। उन्‍होंने स्‍थानीय सरकारों के सभी प्रतिनिधियों से पौधरोपण में लगे अर्द्धसैनिक बलों की सहायता करने का आग्रह किया।

गृहमंत्री ने बताया कि बंजर भूमि को तीन वर्ष की अवधि में हरित वन में परिवर्तित करने के लिए अत्‍याधुनिक तकनीकों को अपनाया गया है। उन्‍होंने आशा व्‍यक्‍त की कि इससे मेघालय में पर्यटन की संभावनाएं बढेंगी और पारिस्थितिकी पर्यटन को बढावा मिलेगा।

बाद में केन्‍द्रीय गृह मंत्री ने पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय के तहत लगभग 25 करोड़ रूपये की अनुमानित लागत की ग्रेटर सोहरा जलापूर्ति योजना का उद्घाटन किया। वे रामकृष्‍ण मिशन सोहरा भी गये।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button