निराला परिवार की अनूठी पहल, बेटियों के नाम झुमरपाली में जलेंगे 5-5 दिये

योगेश केशरवानी:

बिलाईगढ़: बलौदाबाजार जिले के इतिहास में पहली बार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के थीम पर नगर पंचायत भटगांव के वार्ड नम्बर 12 झुमरपाली में एक अनूठी पहल के साथ मनाई जाएगी दिवाली तत्कालीन कलेक्टर रहे आईएएस राजेश सिंह राणा से प्रेरित परिवार कर रहे विशेष पहल…

कुम्हारों को रोजगार से जोड़ने व बेटियों को सम्मान

बलौदाबाजार जिले के तत्कालीन कलेक्टर रहे आईएएस राजेश सिंह राणा के द्वारा कुम्हारों को रोजगार से जोड़ने व बेटियों को सम्मान दिलाने एक पहल किए थे जिससे प्रेरित होकर झुमरपाली के निराला परिवार ने एक अनूठी पहल की शुरुआत की है और इस पहल से पहली बार दिवाली के तीन दिन बेटियों के नाम से  झुमरपाली में 5-5 दिये जलेंगे। 

बेटियों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रेरित

वही लोगों को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के तर्ज पर बेटियों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रेरित भी किया गया निराला परिवार अपने गाँव के लगभग 70 घरों में पांच-पांच मिट्टी के बने दीपक बांटने का निर्णय लिया, और प्रत्येक घरों में घूम-घूमकर सभी परिवारों को मिट्टी का दिये वितरण किए,

वर्तमान कलेक्टर कार्तिकेय गोयल ने भी एक आदेश जारी कर कुम्हारो से टैक्स ना वसुली करने के साथ ही साथ कुम्हारो को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए है झुमरपाली के युवा पत्रकार राजू निराला ने कुम्हकार द्वारा बनाए गए मिट्टी के दिए खरीद दिवाली के पहले ही लोगों के घरों में वितरित करने की योजना बनायी इनका उद्देश्य मिट्टी के दियो का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करने प्रोत्साहित करना है ।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के थीम पर पहल

आपको बता दे यह परिवार बेटी के सम्मान में बेटी के नाम से अपने मकान के गेट में नेम प्लेट लगा चुका है।अब दिवाली के जरिए यह परिवार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के थीम पर पहल की है ताकि इस पहल से लोग बेटियों के प्रति अपनी नजरियां बदल सके ।निराला परिवार कई उद्देश्यों के साथ घर घर पहुँचकर दिये वितरण कर रहे है।

वही निराला परिवार की मुखिया रचना निराला व श्याम बाई निराला का कहना है कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ थीम पर ही नही बल्कि बेटियों की भ्रूण हत्याओं जैसे अपराधों को रोकने सहित कई उद्देश्यों के साथ घर घर पहुँच पांच-पांच दिया वितरण किए है।

मिट्टी से बने दीपक जलाना हम सभी का प्राचीन परंपरा

आज के समय मे लोग मिट्टी के दिये जलाने के बाजाय फैंसी लाईटों से मकानों को सजाते है जबकि मिट्टी से बने दीपक जलाना हम सभी का प्राचीन परंपरा रहा है। साथ ही साथ कुम्हकारों की आजीविका का बड़ा साधन भी है इस पहल से लोगों को कुम्हकारों के मिट्टी के दिए खरीदने के लिए प्रेरित किया गया तांकि कुम्हकार के घरों में भी दिवाली खुशी से मनाई जा सकें। वही इस कार्यक्रम में भटगांव नायब तहसीलदार ममता ठाकुर,शिक्षक,अधिवक्ता और पत्रकारगण सहित वार्ड के लोग शामिल रहे।

वही छत्तीसगढ़ शासन  संयुक्त सचिव आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग राजेश सिंह राणा निराला परिवार की इस पहल से प्रभावित हो निराला परिवार  की पहल को सराहनीय बताते हुए निराला परिवार और झुमरपाली वासियों को बधाई दी व आगे कहां की इस पहल से न केवल समाज मे बेटियों के प्रति सम्मान बढ़ेगी बल्कि भारतीय संस्कृति को और सुदृढ़ करने के लिए अच्छी संदेश जाएगा।

Back to top button