छत्तीसगढ़राज्य

अनोखा प्रदर्शन:यहां ठेले में निकली बुलेट की सवारी ,पीएम को सौंपने की तैयारी,जानें क्या है वजह.!

पेट्रोल -डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन

रायपुर:पेट्रोल -डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी के विरोध में कांग्रेस ने अनोखा प्रदर्शन किया .राजधानी में बुधवार को कांग्रेसियों के इस अनोखे प्रदर्शन को राहगीरों का भी समर्थन मिला .

दरअसल ऐसा इसलिए भी था क्योंकि यहां लोगों ने पहली बार ठेले में बुलेट की सवारी देखी . बुलेट की ऐसी सवारी देखकर लोग भी चौंक गए.

मामला कुछ यूं था कि कांग्रेस नेता दिलीप सिंह चौहान ने आज से कुछ दिन पूर्व पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में ऐलान कर चेतावनी दी थी कि यदि तेल के दामों में वृद्धि हुई तो वे अपनी बुलेट बाइक को प्रधानमंत्री को सौंप देंगे .उनके ऐलान के बाद भी लगातार पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी होती रही .

इधर कांग्रेसी नेता ने भी अपने वादे और घोषणा के अनुरूप बाइक को प्रधानमंत्री को सौंपने की तैयारी कर ली और बाकायदा बाइक को सौंपने ठेले में निकल पड़े.

.कांग्रेस के प्रदर्शन को रोकने भारी पुलिस बल की भी मुस्तैदी की गई थी .लेकिन बावजूद इसके कांग्रेसी बाइक को प्रधानमंत्री को सौंपने जिद पर अड़े रहे .हालांकि वे इस प्रयास में सफल नहीं हो पाए .प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने बीच में ही रोक लिया .

इसके बाद कांग्रेसी नेता दिलीप सिंह चौहान ने पुनः चेतावनी देते हुए कहा कि जब भी प्रधानमंत्री का छत्तीसगढ़ दौरा होगा ,वे अपनी बाइक उन्हें सौंपने जायेंगे.दिलीप चौहान ने कहा कि पेट्रोल -डीजल के बढ़ते दामों ने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी है .कार तो छोड़िये जनता दोपहिया चलाने से भी कतरा रहे हैं .

ऐसे ही दामों में बढ़ोत्तरी कर जनता की गाढ़ी कमाई में सरकार डाका डाल रही है .प्रधानमंत्री का महंगाई ख़त्म करने और झूठे वादे सिर्फ जनता को गुमराह करने के लिए हैं .उन्होंने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से मांग की है कि तेल के दामों को जीएसटी के दायरे में लाया जाए .साथ ही जनता की तकलीफों को समझकर उन्हें राहत दें .उन्होंने कहा कि महंगाई की ऐसी मार में जनता गाड़ी चलाने में भी असमर्थ है .

इधर थाना प्रभारी वीरेन्द्र चतुर्वेदी ने कहा कि कांग्रेसियों ने पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी के विरोध में प्रदर्शन किया है,वे कलेक्टर के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपने जा रहे थे ,लेकिन कलेक्टर परिसर एक प्रतिबंधित क्षेत्र है,जहाँ प्रदर्शन की अनुमति नहीं है .इसलिए प्रदर्शनकारियों को बीच में रोक कर ज्ञापन ले लिया गया है .

Tags
Back to top button