संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद : सीरिया में 30 दिवसीय संघर्षविराम पर हो सकता हैं फैसला

संयुक्त राष्ट्र में कुवैत के राजदूत मंसूर अली ओतेबी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया में 30 दिवसीय संघर्षविराम की मांग संबंधी मसौदा प्रस्ताव पर मतदान शनिवार तक स्थगित कर दिया है

संयुक्त राष्ट्र में कुवैत के राजदूत मंसूर अली ओतेबी ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया में 30 दिवसीय संघर्षविराम की मांग संबंधी मसौदा प्रस्ताव पर मतदान शनिवार तक स्थगित कर दिया है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, फरवरी माह के लिए सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष अल ओतेबी ने कहा कि सुरक्षा परिषद के सदस्यों के बीच शुक्रवार को कई दौर की गोपनीय वार्ता के बाद कोई सहमति नहीं बन पाई.

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

विद्रोहियों के इलाके में सीरियाई बमबारी से 20 बच्चों समेत 100 की मौत

उन्होंने कहा कि परिषद के सदस्य इस मसौदे पर सहमति बनाने के बहुत करीब थे लेकिन वे मतभेदों को दूर नहीं कर पाए. उन्होंने संवाददाताओं को बताया, “हम इस मसौदे पर सहमति बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं और उम्मीद है कि परिषद के सभी 15 सदस्य एकजुट होकर इसके पक्ष में वोट करेंगे.”

कुवैत और स्वीडन द्वारा तैयार किए गए इस मसौदे में सीरिया में 30 दिवसीय संघर्षविराम लागू करने की मांग की गई है ताकि इस बीच मानवीय सहायता पहुंचाई जा सके और संकटग्रस्त क्षेत्रों से गंभीर रूप से बीमार लोगों को सकुशल निकाला जा सके. इस मसौदे पर पहले शुक्रवार को मतदान होना था. संयुक्त राष्ट्र में स्वीडन के राजदूत ओलोफ स्कूग ने कहा कि वह शुक्रवार को हुए इस गतिरोध से बेहद हताश थे. उन्होंने कहा, “मैं बेहद हताश हूं कि संयुक्त राष्ट्र सीरिया के लोगों के कष्ट कम करने का प्रयास करने वाले इस मसौदे पर सहमति नहीं बना पाया.”

Back to top button