छत्तीसगढ़

विश्वविद्यालय विद्यार्थियों के सर्वांगींण विकास के लिए कार्यक्रम आयोजन करे : आनंदीबेन

-राज्यपाल ने कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के प्रेक्षागृह का किया भूमिपूजन

रायपुर।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज यहां कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय रायपुर के प्रेक्षागृह का भूमिपूजन किया। उन्होंने इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय शिक्षा का केन्द्र होते हैं।

मगर उनका दायित्य छात्र-छात्राओं को पाठ्यक्रम के अनुरूप शिक्षा देना और डिग्री बांटना ही ना हो, वे ऐसा कार्यक्रम भी आयोजित करें जिससे विद्यार्थियों के व्यक्तित्व का सर्वांगींण विकास हो। राज्यपाल ने कहा कि हर विद्यार्थी के गुण अलग-अलग होते हैं। विश्वविद्यालयों द्वारा निरन्तर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजनों से उनके अन्तर्निहित गुणों का विकास होगा और उनके सम्पूर्ण व्यक्तित्व में निखार आएगा।

इस तरह न केवल वह स्वयं आगे बढ़ेंगे बल्कि औरों को भी आगे बढ़ने में मदद कर सकेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि विश्वविद्यालयों में आपस में प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए, इससे विद्यार्थियों को बेहतर शैक्षणिक और इतर शैक्षणिक गतिविधियों के माहौल का लाभ मिलेगा। श्रीमती पटेल ने कहा कि कहा कि केन्द्र और राज्य सरकारों द्वारा युवाओं के लिए रोजगारोन्मुखी योजनाएं जैसे स्टार्टअप इत्यादि क्रियान्वित की जा रही है। विश्वविद्यालयों को विद्यार्थियों को ऐसी योजनाओं की भी जानकारी देनी चाहिए।

राज्यपाल ने कहा कि आज यह गौरवशाली क्षण है जब मुझे कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय रायपुर में आने का मौका मिला है। उन्होंने पत्रकारिता विश्वविद्यालय में 700 सीटर सभागृह के निर्माण के लिए भूमिपूजन पर कुलपति प्रो. मानसिंह परमार एवं समस्त विश्वविद्यालय परिवार और छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि किसी भी शिक्षण संस्थान में सर्वसुविधायुक्त प्रेक्षागृह की आवश्यकता होती है, जिसमें सांस्कृतिक-बौ़िद्धक कार्यक्रम के आयोजन होते हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि अब पत्रकारिता विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन में मदद मिलेगी।

उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय ने कहा कि आज का युग सूचना तंत्र का युग है। निरंतर शोध हो रहे हैं। जिनके कारण नई-नई तकनीक सामने आ रही है। परंतु तकनीक सूचनाएं पैदा नहीं कर सकती है। इससे सूचनाओं को गति मिलती है। इसका सकारात्मक उपयोग किया जाना चाहिए। पाण्डेय ने कहा कि ऋषि नारद आदि काल में संचारक की भूमिका निभाते थे और समाज में सही और सकारात्मक सूचना प्रदान करते थे। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता विश्वविद्यालय में टी.वी. स्टुडियो सहित विभिन्न सुविधाओं का विस्तार हो रहा है। विश्वविद्यालय निरंतर प्रगति की ओर है।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा विभाग के सचिव सुरेन्द्र कुमार जायसवाल, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय कुलपति प्रो. मानसिंह परमार, पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय के कुलपति केशरीलाल वर्मा, छत्तीसगढ़ कामधेनु विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. नारायण पुरूषोत्तम दक्षिणकर सहित विश्वविद्यालय के विद्यार्थी और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
विश्वविद्यालय विद्यार्थियों के सर्वांगींण विकास के लिए कार्यक्रम आयोजन करे : आनंदीबेन
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
jindal