उत्तर प्रदेशक्राइम

उन्नाव काण्ड : एक तरफ़ा प्यार बना मौत का कारण,युवती ने मना किया तो पिलाया जहर मिला पानी,दो की मौत,आरोपी गिरफ्तार

पोस्टमॉर्ट में जहर के कारण मौत

उन्नाव : उत्तर प्रदेश के उन्नाव में दलित लड़कियों की मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक पुलिस ने शुक्रवार को कहा कि एकतरफा प्यार के चलते ये घटना हुई है। एक आरोपी दलित लड़की को जानता था और उससे प्यार का इजहार किया था। इनकार पर लड़के ने पानी की बोतल में कीटनाशक मिलाकर लड़की को पिला दिया। वहीँ अनजाने में यही पानी बाकी दोनों लड़कियों ने भी पी लिया।

जानकारी के मुताबिक इन युवकों ने एकतरफा प्यार में इस हत्या को अंजाम दिया था। पुलिस ने बबरहा गांव के बगल के गांव से इन्हें गिरफ्तार किया है। दोनों युवकों ने गेहूं में रखने वाली दवा तीनों लड़कियों को पिलाई थी। जिंदगी और मौत से जूझ रही रोशनी को उनमें से एक एकतरफा प्यार करता था। दोनों आरोपियों ने पहले तीनों लड़कियों को नमकीन खिलाई, फिर पानी की जगह कीटनाशक दवा पिला दी।

पोस्टमॉर्ट में जहर के कारण मौत

पोस्टमॉर्ट में जहर के कारण मौत की बात सामने आई थी। पुलिस की कई टीमें लगातार काम कर रही थीं। दोनों आरोपी बबरहा के बगल के गांव पाठकपुरव के रहने वाले हैं। आईजी लक्ष्मी सिंह ने कहा “इस घटना में शुक्रवार को मुखबिर से सूचना मिली की दो व्यक्ति घटना के पहले और बाद में दिखाई पड़े थे। दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ में पता चला कि आरोपी विनय लंबू की लॉकडाउन के दौरान एक लड़की से दोस्ती हो गई और बाद में उससे प्रेम हो गया। उसने अपने प्रेम का इजहार किया, लेकिन लड़की ने मना कर दिया। आरोपी विनय लंबू ने मोबाइल नंबर मांगा, लेकिन लड़की ने मोबाइल नंबर नहीं दिया, जिससे वह नाराज हो गया। उसने पहले लड़कियों को नमकीन खिलाया फिर कीटनाशक भरी बोतल से पानी दिया।

बाकी दोनों लड़कियां जब वह पानी पीने लगीं तो उसने रोकना चाहा, लेकिन तब तक वह पानी पी चुकी थीं। जब उनके मुंह से झाग आने लगा तो वह वहां से भाग निकला।” दूसरा आरोपी विनय लंबू का दोस्त है और नाबालिग है। उसने इस पूरी घटना में उसकी मदद की थी। वह दुकान से नमकीन लेकर आया था। मुख्य आरोपी ने पहले ही पानी में जहर मिला रखा था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button