क्राइमबड़ी खबरराष्ट्रीय

उन्नाव रेप पीड़िता की हालत बेहद गंभीर

उन्नाव रेप पीड़िता की हालत बेहद गंभीर, लगातार भाई से कह रही है आरोपियों को मत छोड़ना

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में रेप पीड़िता की हालत बेहद गंभीर बनी हुई है. पीड़िता को लखनऊ से एयरलिफ्ट करके दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल लाया गया है. अस्पताल के अधीक्षक ने बताया कि पीड़िता लगातार अपने भाई से कह रही है कि आरोपियों को मत छोड़ना. वो फिलहाल वेंटिलेटर पर है. डॉक्टर्स का कहना है कि पीड़िता की हाल लगातार बिगड़ती जा रही है. पीड़िता अभी बर्न वॉर्ड में भर्ती है. डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता लगभग 90 फीसदी जल गई है. डॉक्टर्स का कहना है कि अगले 72 घंटे तक कुछ भी नहीं कह सकते हैं.

फिलहाल इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है और तीन अन्य हिरासत में है. इन सभी से उन्नाव पुलिस पूछताछ कर रही है. योगी सरकार ने घोषणा की है कि पीड़िता के इलाज में आने वाला सारा खर्च सरकार वहन करेगी. और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इस मामले में प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव समेत तमाम बड़े नेताओं ने योगी सरकार को कानून व्यवस्था के नाम पर आड़े हाथों लिया है.

इस घटना पर सड़क से लेकर संसद तक हंगामा हो रहा है. राज्यसभा में भी इस मुद्दे को लेकर सांसदों ने मांग की कि ऐसे दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी ही चाहिए जिससे कि ऐसी घटनाओं पर रोक लगे. पीड़िता के साथ रेप की घटना पिछले साल 2018 दिसंबर में हुई थी.

मामले में एफआईआर मार्च 2019 में दर्ज हुई थी. मुख्य आरोपी शिवम त्रिवेदी 30 नवंबर को जमानत पर रिहा हुआ था और गुरुवार सुबह उसने अपने सहयोगियों के साथ पीड़िता को जलाकर मारने की कोशिश की. पुलिस के अनुसार वारदात उन्नाव जिले के बिहार थानाक्षेत्र के सिंदुपुर गांव की है.

पीड़िता ने बयान दिया है कि गुरुवार तड़के 4 बजे वह रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी. गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर शुभम, शिवम, उमेश ने उसे घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया. इस बीच वह चक्कर आने से गिरी तो आरोपियों ने पेट्रोल डालकर आग लगा दी.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले पर रिपोर्ट मांगी है. वहीं राष्ट्रीय महिला आयोग ने यूपी के डीजीपी ओपी सिंह को नोटिस जारी कर लापरवाही करने वाले अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई करने को कहा है. इस मामले में पुलिस ने सभी पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

उन्नाव मामले पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने उत्तर प्रदेश के डीजीपी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. कमीशन ने पूछा है कि क्या पीड़िता को समुचित सुरक्षा दी गई थी और इस मामले में जो भी दोषी अधिकारी हैं उनके खिलाफ क्या कार्रवाई हुई है? वहीं उन्नाव के डीएम और एसएसपी ने पूरे मामले की रिपोर्ट शासन को भेज दी है.

Tags
Back to top button