हाई सिक्योरिटी से लैस बैंक की छत को बेखौफ चोरों ने तोड़ा, माल चोरी कर हुए फरार

चोरों ने बैंक के तीन लॉकर्स के ताले तोड़कर उसमें रखे बेशकीमती सामान पर हाथ साफ कर दिया

सिरोही:राजस्थान के सिरोही के शिवगंज शहर की गौशाला रोड़ स्थित एसबीआई बैंक ब्रांच में हाई सिक्योरिटी से लैस बैंक की छत को बेखौफ चोरों ने तोड़ा और चोर माल चोरी करके फरार हो गए. वारदात के बाद से पूरे इलाके में सनसनी फैली हुई है.

चोरों ने बैंक के तीन लॉकर्स के ताले तोड़कर उसमें रखे बेशकीमती सामान पर हाथ साफ कर दिया. बैंक में कुल 405 लॉकर हैं, जिनमें से चोरों ने तीन लॉकर को तोड़कर उसमें रखा कीमती सामान पर हाथ साफ कर दिया. इसके अलावा चौथे लॉकर को भी तोड़ने की कोशिश की.

वारदात के तरीके को देख कर ऐसा लग रहा है कि इसमें चोरों को काफी समय लगा होगा. बावजूद इसके पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी. यहां तक कि बैंक का सुरक्षा गार्ड भी इस पूरे घटनाक्रम से अनजान रहा.

इस घटना की जानकारी सुबह बैंक खुलने के बाद लगी. जब बैंक के अधिकारी और कर्मचारी बैंक आए. तो बैंक के अंदर घुसते ही और वहां का मंजर देखकर स्टाफ के पैरों तले जमीन खिसक गई.

बैंककर्मियों ने तुरंत घटना की सूचना पुलिस को दी और मौके पर पहुंचकर पुलिस ने घटना स्थल की गंभीरता से जांच की और एमओबी टीम को मौके पर बुलाया गया. इसके बाद वारदात स्थल से सबूत इकट्ठा करने का काम शुरू कर दिया.

फिलहाल पुलिस पूरे मामले पर ज्यादा जानकारी देने को तैयार नही है. जिले के पुलिस अधिकारी कुछ कहने से बच रहे हैं और बैंक प्रबंधन नहीं बता रहे हैं कि चोरों ने इस वारदात में कितनी कीमत के माल पर हाथ साफ किया है.

इस मामले में मदन सिंह, पुलिस उपअधीक्षक ,सिरोही का कहना है कि चोरों ने बैंक में मौजूद लॉकरों को तोड़ा है. हमने यहां एमओबी टीम जिससे फिंगर प्रिंट फुट प्रिंट लिए जाते हैं, वो काम कर रही है.

तीन लॉकरों को तोड़ा गया है और एक को तोड़ने का प्रयास किया गया है, बैंक में कुल 405 लॉकर थे. बैंक ग्राउंड फ्लोर पर है और इसके ऊपर कोई फ्लोर नहीं बना है. अपराधी छत को तोड़कर सीधे लॉकर रूम में घुसे और बाहर भी उसी रास्ते से निकले.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button