बाघिन की असमय मौत, अपनी शावकों की देखभाल कर रहा एक बाघ

पन्ना टाइगर रिजर्व में पिछली 15 मई को बाघिन पी 213 (32) की मौत हो गई थी

पन्ना:प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व से अनोखा मामला सामने आया है. यहां बाघिन की मौत के बाद बाघ ने ही पूरी जिम्मेदारी उठा रखी है. बाघ ही बाघों का पालन पोषण कर रहा है. यहां एक बाघिन की मौत के बाद उसके 4 शावकों की देखभाल खुद उनका पिता कर रहा है.

बाघ न केवल अपने बच्चों की देखभाल कर रहा है बल्कि उनके खान-पान का भी पूरा ध्यान रख रहा है. बाघ के इस तरह के व्यवहार की चर्चा पूरे टाइगर रिजर्व में है.

पन्ना टाइगर रिजर्व में पिछली 15 मई को बाघिन पी 213 (32) की मौत हो गई थी. इसके बाद उसके चार शावक कहीं गुम हो गए थे और पन्ना टाइगर रिजर्व प्रबंधन के द्वारा लगातार इन शावकों की तलाश करने में लगा था. प्रबंधन को शावकों के पालन पोषण की चिंता हो रही थी. लेकिन कुछ दिनों बाद पन्ना टाइगर रिजर्व से एक वीडियो वायरल हुआ जिसने हर किसी को हैरान कर दिया.

वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि नर बाघ पी-243 अपने शावकों की अच्छी तरह से देखभाल कर रहा है और शावक अपने पिता के साथ चट्टानों पर जमकर मस्ती कर रहे हैं. दरअसल पन्ना टाइगर रिजर्व में 15 मई को बाघिन पी 213 (32) की अचानक मौत के बाद लगभग 7 से 8 माह चार शावक अचनाक कहीं गुम हो गए थे. जिसे लेकर पन्ना टाइगर रिजर्व पार्क प्रबंधन इनकी खोजबीन में लगे हुए थे.

पन्ना पार्क प्रबंधन ने शवाकों की खोजबीन के लिए इस नर बाघ को जीपीएस सिस्टम से लैस रेडियों कॉलर पहनाया और उसकी लोकेशन को ट्रैक किया. इसके बाद पार्क के अधिकारियों ने देखा कि एक चट्टान पर बाघ अपने शावकों के साथ खेल रहा है और उन्हें शिकार की ट्रेनिंग दे रहा है साथ ही उनका खाने पीने का इंतजाम भी कर रहा है. इस नजारे को देखकर हर कोई हैरान रह गया. विशेषज्ञों का कहना है कि बाघ की यह हरकत चकित करने वाली है, आमतौर पर ऐसा देखने में नहीं आता है.

पन्ना टाइगर रिजर्व क्षेत्र के संचालक उत्तम कुमार शर्मा का कहना है कि बाघ पी-243 इन शावकों का पिता है और रिजर्व प्रबन्धन नर बाघ के हर मूवमेंट और शावकों के लिए उसके प्रयासों का पता लगाने के लिए सेटेलाइट कॉलर से जानकारी जुटाने में लगा है. क्षेत्र के संचालक का कहना है कि आमतौर पर ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है कि नर बाघ अपने बच्चों की जिम्मेदारी उठाता हो लेकिन ऐसा देखा जा रहा है और यह बहुत ही खुशी की बात है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button