जॉब्स/एजुकेशन

आज दोपहर 12 बजे जारी होगा यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर का रिजल्ट, जानिए डिटेल्स

2019 में हाईस्कूल के 80.08 फीसदी और इंटर के 70.06 फीसदी छात्र-छात्राएं सफल हुए थे।

नई दिल्लीः

कोरोना संकट के बीच यूपी बोर्ड के छात्रों के लिए खुशखबरी है। आज 12 बजे उत्तर प्रदेश बोर्ड के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट घोषित किए जाएंगे बोर्ड परीक्षा में शामिल 50 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं को अपने रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार है। 2020 की हाईस्कूल परीक्षा के लिए 3022607 और इंटर के लिए 2584511 विद्यार्थी पंजीकृत थे।

यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का रिजल्ट आज दोपहर 12 बजे upmsp.edu.in , upresults.nic.in और upmspresults.up.nic.in पर जारी किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा लखनऊ में नतीजों ( up board high school and intermediate result 2020 ) की घोषणा करेंगे।

इंटर के 70.06 फीसदी छात्र-छात्राएं सफल

लॉकडाउन के कारण परिणाम पिछले साल की तुलना में एक महीने देरी से घोषित हो रहा है। घबराने की बात नहीं है क्योंकि इस बार का परिणाम पिछले साल की तरह ही रहने के आसार हैं। सूत्रों के अनुसार परिणाम में कोई बड़ा बदलाव होने का अनुमान नहीं है। 2019 में हाईस्कूल के 80.08 फीसदी और इंटर के 70.06 फीसदी छात्र-छात्राएं सफल हुए थे। इस बार भी सफलता का प्रतिशत पिछले साल के आसपास रहने के आसार हैं। वैसे भी सीबीएसई की तर्ज पर चली आ रही मॉडरेशन नीति और बोर्ड की ग्रेस मार्क्स नीति के कारण बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं पास हो जाते हैं।

जानकारी के मुताबिक यूपी बोर्ड मार्कशीट में कुछ बदलाव करने जा रहा है। इस बार यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा में शामिल 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को पहली बार डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट देने जा रहा है। परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर रिजल्ट तो अपलोड कर दिया जाएगा। लेकिन सचिव नीना श्रीवास्तव के डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट अपलोड होने में दो-तीन का समय लगेगा। सूत्रों के अनुसार हर साल रिजल्ट के समय इंटरनेट से जो अंकपत्र बच्चों को मिलता है उसकी कोई कानूनी मान्यता नहीं होती।

प्रधानाचार्यों की जिम्मेदारी तय

लेकिन डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट प्रवेश से लेकर नौकरी तक में मान्य होती है। यही कारण है कि पहले इंटरमीडिएट के बच्चों को ये विशेष रूप से तैयार अंकपत्र देने की तैयारी है ताकि उन्हें आगे स्नातक या अन्य प्रवेश में किसी तरह की परेशानी न हो। बाद में हाईस्कूल के बच्चों को उपलब्ध कराई जाएगी। इसे स्कूलों के माध्यम से बच्चों को देने पर विचार चल रहा है। ताकि प्रधानाचार्यों की जिम्मेदारी तय की जा सके।

प्रधानाचार्य बोर्ड की वेबसाइट से डिजिटल हस्ताक्षर वाली मार्कशीट डाउनलोड कर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए उसे बच्चों को बांटेंगे। बाद में हालात सामान्य होने पर अंकपत्र सह प्रमाणपत्र छपवाकर पहले की तरह स्कूलों से बंटवाया जाएगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button