यूपी: गन्ना किसानों का धरना प्रदर्शन, सरकार को धर्म परिवर्तन की दी धमकी

गन्ना किसानों की मांग है कि पिछले साल के गन्ने की फसल के 80 करोड़ रुपये और इस साल की राशि का भुगतान किया जाए।

लखनऊ।

पश्चिमी यूपी के शामली में गन्ना किसानों ने सरकार को धमकी दी है। 5 दिनों से किसान कलेक्ट्रेट के सामने धरना पर बैठे हैं। गन्ना किसानों की मांग है कि पिछले साल के गन्ने की फसल के 80 करोड़ रुपये और इस साल की राशि का भुगतान किया जाए। किसानों ने भुगतान राशि नहीं मिलने पर बड़ी संख्या में धर्म परिवर्तन करने की बात कही है.

दरअसल, सरकार के नियम के मुताबिक 14 दिन में किसानों को गन्ना की राशि भुगतान करना होता है और इससे लेट होने पर मिल मालिक किसानों से ब्याज वसूलना शुरू कर देते हैं. हालांकि,

अभी तो किसानों को ब्याज तो दूर पिछले साल का मूल भी नहीं मिला है. यही कारण है कि किसान धरने पर बैठे हैं. सरकार के ध्यान को अपनी ओर खींचने के लिए किसान कई प्रकार तरीके भी अपनाते दिखे रहे हैं. हालांकि, इसके बावजूद भी उनकी नहीं सुनी जा रही.

धरना-प्रदर्शन के तीसरे दिन किसानों ने सिर मुड़वाकर विरोध जताया था. वहीं, चौथे दिन यानी शनिवार को मुस्लिम किसानों ने धरना स्थल पर ही नमाज पढ़ी. किसानों का कहना है कि गन्ना उगाने वाले किसान परेशान हैं.

उनका पिछले सीजन का पैसा अभी तक नहीं मिला है. उनका कहना है कि सरकार ने 14 दिनों में गन्ने का भुगतान करने का वादा किया था लेकिन पैसा अभी तक नहीं मिला है. किसानों की परेशानी सिर्फ गन्ने तक ही सीमित नहीं है.

एडीएम ने की राशि की घोषणा तो किसानों ने किया इनकार

धरने के बीच पहुंचे एडीएम ने किसानों को पहले 7 करोड़ फिर 10 करोड़ के भुगतान की बात कही. लेकिन किसानों ने इस राशि को लेने से इनकार कर दिया. उनका कहना है कि यह तो इस साल की राशि होगी, फिर पिछले साल के बकाए 80 करोड़ का क्या? साथ ही किसानों ने समस्त भुगतान न होने तक धरना जारी रखने की चेतवानी दी.

बता दें कि जिला प्रशासन की ओर से घरना-स्थल पर एडीएम केबी सिंह, एसडीएम प्रशांत सिंह, एडीशनल एसपी अजय प्रताप सिंह भी पहुंचे. इस दौरान उन्होंने मिल प्रबंधन से किसानों की वार्ता भी करवाई लेकिन किसान अपनी मांगों पर डटे रहे.

1
Back to top button