छत्तीसगढ़

गेरुआ रंग का वस्त्र धारण कर मोह माया में लगे हुए हैं यूपी सरकार : सीएम बघेल

सीएम बघेल ने प्रदेशवासियों को दी नए वर्ष की बधाई एवं शुभामकानाएं

रायपुर: ओडिशा के क्योंझर जिले के घाटगांव में स्थानीय कार्यक्रम शामिल होने रवाना हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वे गेरूआ रंग का वस्त्र धारण कर मोहमाया में लगे हुए हैं.

पूरा साल छत्तीसगढ़ के लिए उपलब्धियों भरा रहा

पत्रकारों से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरा साल छत्तीसगढ़ के लिए उपलब्धियों भरा रहा है. कर्ज माफी से लेकर बिजली बिल हाफ, 35 किलो चावल, 2500 रु धान खरीदी और इसी साल में ऐतिहासिक फैसला किसानों की जमीन वापसी का हुआ. जिन आदिवासियों को गलत ढंग से जेल में रखा गया था उन्हें छोड़ने की प्रक्रिया के साथ नरवा-गरवा-घुरवा बाड़ी कार्यक्रम संचालित हुए हैं. फ्री होल्ड से लेकर गुमास्ता जैसे सारी सुविधाएं यहां दी गई.

मुख्यमंत्री सुपोषित योजना, हाट बाजार क्लिनिक योजना, शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना की शुरुआत यहां से की गई. यह तमाम उपलब्धि इस वर्ष की रही हैं. आने वाले वर्ष में भी इसी प्रकार से निरंतर छत्तीसगढ़ की सेवा हम करेंगे. निरंतर प्रगति की दिशा में हम अग्रसर हो ताकि भारत के मानचित्र में छत्तीसगढ़ का स्थान सर्वोपरि हो यह हमारा प्रयास होगा.

गेरुआ वस्त्र किसी की किसी की बपौती नहीं

प्रियंका गांधी के बयान ‘गेरुआ वस्त्र किसी की किसी की बपौती नहीं है ‘ का समर्थन करते हुए कहा कि भगवा रंग को गेरुआ वस्त्र कहा जाता है जो त्याग का परिचायक है गेरुआ वस्त्र और ध्वजा शिवाजी महाराज ने अपनाया था और अपना पूरा राजपाठ समर्पित कर दिया थ.

योगी आदित्यनाथ भगवा रंग धारण कर लिए हैं लेकिन संसार का त्याग नहीं किया बल्कि कुर्सी से चिपक गए हैं. सही मायने में भारत के साधु-संतों ने जिस भगवा रंग को अपनाया व त्याग की भावना से अपनाया है लेकिन,यहां त्याग नहीं दिखाई देता. उत्तर प्रदेश में तो जातिवाद दिखाई दे रहा है योगी आदित्यनाथ वहां जातिवाद फैला कर रखे हैं.

उन्होंने आगे कहा कि गेरुआ वस्त्र त्याग का रंग है हरा रंग हरियाली और उसी प्रकार से सफेद सादगी का परिचायक है. लेकिन आप स्वयं को साधु बताकर गेरुआ धारण कर रहे हैं और मोह माया में फंसे हुए हैं.

यह रंग इसलिए नहीं है कि सत्ता प्राप्त किया जाए, इस दौरान उन्होंने उमा भारती और प्रज्ञा ठाकुर पर भी तंज कसते हुए कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को मैं साध्वी नहीं मानता. वह जब भी जुबान खोलती हैं तो जहर उगलती है यह साधु का लक्षण नहीं हैं.

धान खरीदी की तिथि बढ़ाए जाने पर कहा…

अभी पूरी जनवरी माह बाकी है उसके बाद फरवरी आ जाएगी यदि उस पर भी धान खरीदी पूरी नहीं हो पाई तब तिथि आगे बढ़ाई जाएगी.

महापौर बनाने के बीजेपी के दावे और कांग्रेस में फूट पड़ने वाले बयान पर कहा कि…

अफवाह फैलाने में बीजेपी का कोई मुकाबला नहीं है. वह तो एक ही दिन में गणेश को दूध पिला देते हैं. बीजेपी कुछ भी कर सकती है अफवाह फैलाने में उन्हें महारत हासिल है.

Tags
Back to top button