उत्तर प्रदेश

यूपी पंचायत चुनाव 2020: ‘अवैध संबंधों’ की जानकारी जुटा रही खुफिया एजेंसियां, जानें क्यों?

पंचायत चुनाव में ये मामले किसी बड़े विवाद की वजह न बन जाएं, इसके लिए पहले से ही एहतियात बरती जा रही है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में खुफिया एजेंसियां अब गांव-गांव जाकर अवैध संबंध और प्रेम-प्रसंग के मामले ढूंढ़ रही है। दरअसल, एडीजी (इंटेलिजेंस) एसबी शिरोडकर द्वारा एक पत्र जारी किया गया है। इसमें उन्होंने पंचायत चुनावों के मद्देजनर 11 बिंदुओं पर जानकारी जुटाने का आदेश दिया है। इन बिंदुओं में एक बिंदू अवैध संबंध का भी है। पंचायत चुनाव में ये मामले किसी बड़े विवाद की वजह न बन जाएं, इसके लिए पहले से ही एहतियात बरती जा रही है।

हर गांव में जारी अवैध संबंधों पर नजर

एलआईयू और इंटेलिजेंस को हर गांव में जारी अवैध संबंधों के बारे में जानकारी जुटाने को कहा गया है। वर्तमान में गांव में क्या स्थिति है, पुलिस ने कोई कार्रवाई की है या नहीं, विवाद जैसी स्थिति आदि पर जानकारी जुटाने को कहा गया है। दरअसल, इस तरह के मामले कई बार बड़ा रूप ले लेते हैं और बवाल की वजह बन जाते हैं। चुनाव के दौरान ऐसा कुछ न हो, इसलिए पहले से इस तरह की जानकारियां जुटाई जा रही हैं। इसके अलावा जातीय विवाद, जमीन से जुड़े विवाद, धर्मस्थल विवाद भी इकठ्ठा किए जा रहे हैं। गांवों में उन लोगों को भी चिन्हित किया जा रहा है जो अचानक से धनवान हो गए। पंचायत चुनाव में क्या विवाद हो सकता है, इसका पूर्वानुमान लगाते हुए पहले से जानकारी मांगी गई है।

यूपी में पंचायत चुनाव की तैयारियां शुरू

बता दें, उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई हैं। प्रदेश में कभी भी पंचायत चुनाव का ऐलान किया जा सकता है। जिसको देखते हुए पुलिस से लेकर खुफिया एजेंसियां भी सतर्क हो गई हैं। अगले साल प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी होने हैं, ऐसे में पंचायत चुनावों की महत्ता और बढ़ जाती है। एसएसपी मेरठ अजय साहनी का कहना है कि पंचायत चुनाव के मद्देनजर गांवों से सूचनाएं एकत्रित कराई जा रही हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button