यूपी पुलिस के एक सिपाही और किसान नेता पर सेक्स रैकेट का आरोप

पीड़िता ने देवर और ननदोई पर लगाए थे यौन उत्पीड़न के आरोप

सीतापुर: घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने का आश्वासन दिलाकर पहले उसे अपने झांसे में लेकर सेक्स रैकेट के दलदल में उतारने का आरोप उत्तर प्रदेश पुलिस के एक जवान और महिला किसान नेता के ऊपर एक घरेलू हिंसा की पीड़िता ने लगाया है।

महिला का आरोप है कि इस पूरे प्रकरण में पुलिस से बचने के लिए किसान नेता ने यूपी 112 के एक आरक्षी का भी संरक्षण ले रखा है। महिला ने पुलिस के उच्चाधिकारियों के सामने महिला किसान नेता की महिलाओं की खरीद फरोख्त का भी आरोप लगाया है। पीड़ित महिला के आरोपों के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है।

एएसपी ने पूरे मामले में महिला किसान नेता के खिलाफ केस दर्ज पर पूरे प्रकरण की जांच सीओ सिधौली को सौंप दी है। मामला सीतापुर के कमलापुर थाना इलाके का है। यहां के संदना थाना इलाके की रहने वाली एक महिला ने अटरिया के रहने वाले अनिल नाम के एक युवक से प्रेम विवाह किया था। पीड़िता के मुताबिक, विवाह के कुछ दिनों बाद देवर और ननदोई ने उसके साथ यौन उत्पीड़न किया जिसकी शिकायत पीड़िता ने अटरिया थाने में की थी।

महिला नेता ने रैकेट में फंसाने की कोशिश की

पीड़िता का कहना है कि शिकायत के बाद कार्रवाई न होने पर वह कमलापुर इलाके की रहने वाली किसान नेता विन्देश्वरी यादव से संपर्क किया क्योंकि वह महिलाओं को न्याय दिलाने का काम करती थी।

महिला का आरोप है कि किसान नेता न्याय का भरोसा दिलाने की बात कहकर वह उसे अपने घर ले आईं। आरोप हैं कि कुछ दिनों तक वहां कई तरह के लोग आए जिसके सामने महिला उसे पेश करती थी और बेचने की बात कहती थी।

डायल 112 के सिपाही पर लगे आरोप

महिला का आरोप है कि इस दौरान वहां यूपी 112 पर तैनात सिपाही महेश भी आया और उसे 20 हजार रुपये देकर बेचने की बात कही लेकिन पीड़िता ने मना कर दिया। इस पर किसान नेता और उसके साथियों ने पीड़िता को जमकर पीटा। शोरगुल की आवाज सुनकर स्थानीय लोगों ने पुलिस में शिकायत की। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता और किसान नेता को थाने पर ले आई।

महिला नेता के खिलाफ केस दर्ज

पुलिस के उच्चाधिकारियों के सामने पीड़िता ने पूरे प्रकरण को बताया। सेक्स रैकेट और महिलाओं की खरीद फरोख्त के आरोपों के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ हैं। एएसपी नरेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि मामले में महिला किसान नेता के खिलाफ मारपीट समेत अन्य सुसंगत धाराओं में केस दर्ज किया गया।

पीड़िता के लगाए गए अन्य आरोपों की जांच के लिए सीओ सिधौली को लगाया गया। एएसपी का कहना है कि पूरे प्रकरण में आरक्षी की संलिप्तता के आरोपों के लिए विभागीय जांच के आदेश दिए हैं। एएसपी का कहना है कि अगर पीड़िता के आरोपों में सत्यता पायी जाती हैं तो आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button