राष्ट्रीय

दिल्ली विधानसभा में कृषि कानूनों पर हंगामा, केजरीवाल ने फाड़ी कॉपी

सदन में सबसे पहले केंद्र के तीन कृषि कानूनों पर चर्चा हो रही थी।

नई दिल्‍ली: दिल्ली विधानसभा के एक दिन के विशेष सत्र के दौरान आम आदमी पार्टी के विधायक महेंद्र गोयल ने कृषि कानूनों की कॉपी फाड़ दी। चर्चा के दौरान विधायक महेंद्र गोयल ने तीनों कृषि कानूनों की प्रति फाड़ते हुए कहा कि ये कानून किसान विरोधी हैं।

सदन में सबसे पहले केंद्र के तीन कृषि कानूनों पर चर्चा हो रही थी। इस बीच सदन में आम आदमी पार्टी के विधायकों ने जय जवान-जय किसान का नारा भी लगाया। महेंद्र गोयल ने कहा, “मैं इन काले कानूनों को स्वीकार करने से इनकार करता हूं, जो किसानों के खिलाफ हैं।”

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, ”हर किसान भगत सिंह बन गया है। सरकार कह रही है कि वे किसानों तक पहुंच रहे हैं और फार्म बिलों के लाभों को समझाने की कोशिश कर रहे हैं। यूपी के सीएम ने किसानों से कहा कि वे इन बिलों से लाभान्वित होंगे, क्योंकि उनकी जमीन नहीं छीनी जाएगी। क्या यह लाभ है।” उन्‍होंने कहा, ”फार्म लॉ को महामारी के दौरान संसद में पारित करने की क्या जल्दी थी? यह पहली बार हुआ है कि राज्यसभा में मतदान के बिना 3 कानून पारित किए गए। मैंने इस विधानसभा में 3 कानूनों को फाड़ दिया और केंद्र से अपील की कि वे अंग्रेजों से बदतर न बनें।”

‘किसानों को कितनी कुर्बानी देनी होगी’

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा के एक विशेष सत्र को संबोधित किया, जिसमें किसानों के आंदोलन पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा, “मैं केंद्र से पूछना चाहता हूं कि किसानों को कितनी कुर्बानियां देनी पड़ेंगी, उनकी आवाज सुनी जा सकेगी।”

केजरीवाल सरकार ने 23 नवंबर को राष्ट्रपति की सहमति के बाद कानूनों को लागू कर दिया था। दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ‘किसान विरोधी’ कानूनों का वर्णन करते हुए दावा किया है कि इससे महंगाई बढ़ेगी और कुछ ही पूंजीपतियों को फायदा होगा।

दिल्ली विधानसभा सत्र: गहलोत ने केंद्र के नए कृषि कानूनों को निरस्त करने का संकल्प लिया

दिल्ली के मंत्री कैलाश गहलोत ने विधान सभा में केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए एक प्रस्ताव पेश किया। AAP सरकार ने नगर निगमों में लगभग 2,500 करोड़ रुपये की कथित हेराफेरी पर चर्चा करने के लिए दिल्ली विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाया है।

सितंबर में लागू, तीन कृषि कानूनों को केंद्र सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र में बड़े सुधारों के रूप में पेश किया गया है जोकि बिचौलियों को दूर करेगा और किसानों को देश में कहीं भी फसल बेचने की अनुमति देगा।

हालांकि, प्रदर्शनकारी किसानों ने आशंका व्यक्त की है कि नए कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) को समाप्त करने का मार्ग प्रशस्त करेंगे और मंडी प्रणाली को दूर करते हुए उन्हें बड़े कॉर्पोरेट की दया पर छोड़ देंगे।

Tags
Back to top button