उत्तर प्रदेशराज्य

विवाद के बीच आगरा में योगी, ताज महल में लगाया झाड़ू

आगरा: अयोध्या, बुंदेलखंड, बिजनौर और बनारस के बाद गुरुवार को सीएम योगी आदित्यनाथ आगरा दौरे पर पहुंच गए। ताज को लेकर चल रहे घमासान के बीच योगी ताज महल का दीदार भी करेंगे। तय कार्यक्रम के मुताबिक सुबह वह आगरा पहुंचें। नौ बजे के करीब वह ताज महल जाएंगे और लगभग आधे घंटे का वक्त इस इमारत में गुजारेंगे।

ताज महल पर पिछले कई दिन से जारी विवादों के बाद गुरुवार को सीएम योगी के यहां दौरे पर सबकी नजर रहेगी। हर कोई यह देखने के लिए उत्सुक है कि आखिर इस खूबसूरत स्मारक के सामने सीएम की तस्वीर कैसी आएगी। सीएम के इस दौरे पर राजनीतिक बयानबाजी भी हो चुकी है। गुरुवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने ट्वीट कर इशारों मे ही चुटकी ली।

विवाद की शुरुआत यूपी टूरिज्म की किताब से राज्य में विकास परियोजनाओं की लिस्ट से ताज महल को हटाने से हुई थी। इसके बाद बीजेपी नेताओं ने ताज महल को लेकर विवादित टिप्पणी की।

विधायक संगीत सोम ने ताज महल को भारतीय इतिहास पर धब्बा बताया, वहीं बीजेपी नेता विनय कटियार ने कहा कि यहां पहले शिव मंदिर था।

वहीं कुछ अन्य राजनेताओं ने यूनेस्को के इस विश्व धरोहर स्थल, जिसका दीदार करने लाखों लोग पहुंचते हैं, को भारतीय सामाजिक-सांस्कृतिक लोकाचार का प्रतिनिधित्व न करने वाला बताया था। पर्यटन जगत के कई दिग्गजों को आशा है कि मुख्यमंत्री के दौरे से इस विवाद पर विराम लग जाएगा।

सीएम योगी आगरा में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाओं का शिलान्यास करेंगे। साथ ही बीजेपी के करीब 500 कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर पश्चिमी गेट पर वृहद स्तर पर स्वच्छता अभियान चलाएंगे।

आगरा पहुंचने के बाद सबसे पहले योगी ताज महल जाएंगे यहां वह करीब 30 मिनट का वक्त बिताएंगे साथ ही शाहजहां और मुमताज महल की कब्र के पास भी जाएंगे।

ताज महल का भ्रमण करने वाले पहले सीएम

पर्यटन विभाग के प्रमुखबत सचिव अवनीश अवस्थी ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री ताज महल के अंदर के सभी स्थानों का भ्रमण करेंगे। योगी भाजपा के ऐसे पहले मुख्यमंत्री होंगे, जो ताज महल का भ्रमण करेंगे।

वह ताज महल से आगरा किले के बीच पर्यटक मार्ग की आधारशिला भी रखेंगे। अवस्थी ने बताया कि राज्य सरकार पहले ही घोषणा कर चुकी है कि वह ताजनगरी में पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से विकास योजनाओं पर 370 करोड़ रुपये खर्च करेगी।

बता दें कि ताजमहल का निर्माण मुगल शासक शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में करवाया था। मोहब्बत की मिसाल के तौर पर इस इमारत की गिनती दुनिया के 7 अजूबों में से की जाती है। 1648 के आसपास माना जाता है कि इस खूबसूरत इमारत का निर्माण कार्य पूरा हुआ था।

Summary
Review Date
Reviewed Item
आगरा में योगी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.