बीएचयू में महिलाओं से छेड़छाड़ का है यूनीक नाम- लंकेटिंग

वाराणसी: बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) के वाइस चांसलर पब्लिक प्लेस में सुरक्षा को खतरा के नाम पर कैम्पस के बाहर छात्राओं के आंदोलन पर नियंत्रण को जायज ठहरा रहे हैं

वहीं छात्राओं का कहना है कि लड़के उन्हें उनके होस्टल के बाहर भी परेशान करते हैं। इस आरोप ने यूनिवर्सिटी परिसर में महिलाओं को सुरक्षा को लेकर सवाल पैदा किए हैं।

BHU तार्किक तौर पर देश की पहली यूनिवर्सिटी है जहां महिलाओं के साथ छेड़छाड़ को यूनीक नाम- ‘लंकेटिंग’ दिया गया है।

यह नाम बीएचयू के सिंह द्वार गेट के नजदीक मौजूद एक बाजार से पैदा हुआ है। यह है लंका मार्केट।

लंका मार्केट में कई कैफे और रेस्तरां हैं। बाजार में स्टूडेंट्स और बाइक सवार स्थानीय युवक घूमते रहते हैं।

वे यहां महिलाओं का पीछा करते हैं और उन्हें छेड़ते हैं। बीएचयू के ट्राइसेक्शन पर एक विमिंज कॉलेज महिला महाविद्यालय है।

इसके बाहर भी लड़कों की भीड़ लगी रहती है जो लड़के, लड़कियों को छेड़ते हैं।

लड़कों के ऐसे बर्ताव के कारण स्टूडेंट्स और स्थानीय लोगों के बीच अक्सर झड़प होती रहती है। महिलाओं का कहना है कि वे बाजार में असुरक्षित महसूस करती हैं।

बीए स्टूडेंट साक्षी मलिक ने कहा, ‘जब भी हम बाजार जाते थे हमेशा एक मेल फ्रेंड हमारे साथ होता था।

किसी अनजान व्यक्ति द्वारा छेड़ना और फब्तियां कसने का खतरा हमेशा बना रहता है।’ वहीं दूसरी लड़कियों का कहना है कि वे बदनामी के डर से कई मौके पर छेड़छाड़ की रिपोर्ट ही नहीं करातीं।

Back to top button