कुम्भ अथवा मीन लग्न वालों के बारहवें भाव में स्थित शुक्र योगप्रद नहीं होता, परन्तु अन्य लग्नों के बारहवें भाव में स्थित शुक्र योगप्रद होता है।

आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए सम्पर्क कर सकते हो, सम्पर्क सूत्र:- 9131366453

शुक्र एक भोग-विलास का ग्रह है और उधर द्वादश भाव भी भोग-विलास का भाव है। इसलिए साधारणतया शुक्र जब भी द्वादश भाव में स्थित होता है, भोग-विलास व धनादि देता है।

लेकिन यहाँ ध्यान रखना चाहिए कि द्वादश भाव में शनि की राशि में शुक्र न स्थित हो। चूँकि शनि नैसर्गिक रूप से अभाव और निर्धनता का ग्रह है, इसलिए शुक्र के वहाँ स्थित होने पर वह शनि के गुणों से प्रभावित होकर शुभ फलों में न्यूनता ला देता है।

ऐसा कुम्भ और मीन लग्न में ही संभव हो पाता है क्योंकि जब लग्न कुम्भ होगा तो बारहवें भाव में शनि की मकर राशि पड़ेगी और जब लग्न मीन होगा तो बारहवें भाव में शनि की मूलत्रिकोण राशि कुम्भ पड़ेगी। इस कारण इन दो लग्नों के द्वादश भाव में स्थित शुक्र को बहुत शुभ नहीं माना गया है।

किसी भी प्रकार की समस्या समाधान के लिए आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ) जी से सीधे संपर्क करें = 9131366453

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button