दिग्गज तेलुगु अभिनेत्री और फिल्म निर्माता जी. विजया निर्मला का निधन

फिल्म 'रंगुला रत्नम' में वाणीस्त्री और अंजलि देवी के साथ तेलुगु फिल्म में किया डेब्यू

नई दिल्ली: भारतीय फिल्म अभिनेत्री, निर्माता और निर्देशक विजया निर्मला अब इस दुनिया में नहीं रही. विजया ने 2002 में सबसे अधिक फिल्मों की महिला निर्देशक के रूप में गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में प्रवेश किया.उनके बेटे नरेश ने इस खबर की पुष्टि की. वह 75 साल की थीं.

नरेश ने ट्वीट किया, “मुझे आपको यह सूचित करते हुए खेद है कि मेरी मां, वरिष्ठ कलाकार, प्रतिष्ठित निर्माता और निर्देशक डॉ. ए जी विजया निर्मला का निधन आज तड़के हो गया. 27 जून को हैदराबाद के कॉन्टिनेंटल अस्पताल में बीमारी की वजह से वह 75 साल की थीं.”

कल (शुक्रवार) होगा अंतिम संस्कार

नरेश ने यह भी लिखा, “सुबह 11 बजे से उनके पार्थिव शरीर को हमारे घर में रखा जाएगा. अंतिम संस्कार कल (शुक्रवार) होगा.” विजया निर्मला ने अपने करियर की शुरुआत बतौर बाल कलाकार से की थी. महज पांच साल की उम्र में साल 1950 में तमिल फिल्म ‘मच्चा रेकाई’ से उन्होंने एक्टिंग में अपना डेब्यू किया और इसके चार साल बाद फिल्म ‘पांडुरंग महाथयाम’ से उन्होंने तेलुगु फिल्म के क्षेत्र में कदम रखा.

साल 1964 में आई मलयालय फिल्म ‘भार्गवी निलयम’ से वह लोगों के बीच मशहूर हुईं. इसके बाद मशहूर मलयालय कलाकार प्रेम नजीर के साथ ‘उद्योगस्था’ में काम करने का उन्हें दोबारा मौका मिला. एक प्रमुख महिला कलाकार के रूप में उन्होंने फिल्म ‘रंगुला रत्नम’ में वाणीस्त्री और अंजलि देवी के साथ तेलुगु फिल्म में डेब्यू किया.

1967 में तेलुगु फिल्म ‘साक्षी’ के सेट पर उनकी मुलाकात अभिनेता कृष्णा से हुई जिसके साथ उन्होंने 47 फिल्मों में काम किया और आखिरकार दोनों ने शादी कर ली. हालांकि यह उनकी दूसरी शादी थी. विजया निर्मला ने 44 फिल्मों का निर्देशन किया. एक फिल्म निर्माता के तौर पर उन्हें शिवाजी गणेशन और रजनीकांत जैसे चर्चित कलाकारों को निर्देशित करने का सौभाग्य मिला.

उनकी अन्य निर्देशकीय परियोजनाओं में ‘राउडी रंगम्मा’, ‘सीरिमल्ले नव्वेनदी’, ‘बेजवाड़ा बेबुल्ली’ और ‘कलेक्टर विजया’ सहित और भी कई फिल्में शामिल हैं. एक महिला फिल्म निर्माता द्वारा निर्देशित अधिकांश फिल्मों के लिए उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है. तेलुगु फिल्म जगत के सदस्यों ने इस दौरान ट्वीट कर उन्हें याद किया.

Tags
Back to top button