उपराष्ट्रपति ने वन्यजीवों के अध्ययन के महत्व और जानवरों से मनुष्‍यों में फैलने वाले रोगों को बेहतर ढंग से समझने पर जोर दिया

दिल्ली: उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने आज लुप्त हो रही प्रजातियों के संरक्षण के लिए वन्यजीवों के अध्ययन के महत्व और जानवरों से मनुष्‍यों में फैलने वाले रोगों को बेहतर ढंग से समझने पर जोर दिया।

हैदराबाद में सीएसआईआर सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी-सीसीएमबी लुप्त होती प्रजातियों के संरक्षण प्रयोगशाला-लैकोनेस में वैज्ञानिकों के साथ बातचीत में उपराष्ट्रपति ने कहा कि लैकोनेस-सीसीएमबी और चिड़ियाघर जैसे अनुसंधान संस्थानों को एक साथ काम करना होगा।

उन्होंने कहा कि यह उनकी आनुवंशिक सामग्री को संरक्षित करने, सहायक प्रजनन तकनीकों का लाभ उठाने में भी मदद करेगा। उन्होंने प्रयोगशाला का दौरा किया और लैकोनेस में वन्यजीव संरक्षण के लिए मुख्य सुविधाओं को देखा। उन्होंने LaCONES और सेंट्रल जू अथॉरिटी द्वारा लिखित ‘वन्यजीव संरक्षण के लिए आनुवंशिक संसाधन बैंकों का परिचय’ पर एक पुस्तक का भी विमोचन किया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button