राष्ट्रीय

उपराष्ट्रपति : वंदेमातरम् और ‘भारत माता की जय’ से ऐतराज क्यों?

देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सोमवार को कानपुर में कहा कि वह चाहते हैं​ कि स्कूलों के पाठ्यक्रम में कृषि और संस्कृति की पढ़ाई भी हो

देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सोमवार को कानपुर में कहा कि वह चाहते हैं​ कि स्कूलों के पाठ्यक्रम में कृषि और संस्कृति की पढ़ाई भी हो. इसके लिए वह खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात करेंगे.

उपराष्ट्रपति ने चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लिया. इस दौरान उन्होंने सात कुलाधिपति को स्वर्ण पदक, 7 विश्वविद्यालयों को रजत पदक, और 7 को कांस्य पद सहित 31 पदक प्रदान किया. इसके अलावा 430 छात्र एवं छात्राओं को सम्मानित किया.

उन्होंने कहा कि हिन्दी भाषा का बहुत महत्व है. वहीं कालेधन पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि जो छुपा धन था, वह बाहर आ गया. उपराष्ट्रपति ने पूछा कि वंदेमातरम्, भारत माता की जय हमारी सभ्यता है. इसमें किसी को एतराज क्यों है.

वहीं अफजल गुरू के लिए वेंकैया नायडू ने कहा कि अफजल गुरु ने हम लोगों को मारने की कोशिश की थी. राम नाईक, मुरली मनोहर जोशी और मुझे मारने की कोशिश की थी. हम देश के लिए काम कर रहे हैं इसलिए बच गये. इससे पहले रविवार शाम को उपराष्ट्रपति लखनऊ पहुंचे. यहां से उन्होंने राजभवन में विश्राम किया.

Tags
Back to top button