फर्जी साइन कर आरटीजीएस करने गए शातिर काे पुलिस ने किया गिरफ्तार

मैनेजर काे जब शक हुआ ताे उन्हाेंने पटेल काे ईमेल किया और सारी जानकारी दी

पटना: बिना ऑरिजनल चेक या क्लाेन चेक लेकर बैंक जाकर पटना के भू-अर्जन पदाधिकारी पंकज पटेल और बैंक मैनेजर अभिषेक राजा का फर्जी साइन करा कर 11 कराेड़ 73 लाख 12 हजार 721 रुपए आरटीजीएस करने वाले चितकाेहरा बाजार का रहने वाले शुभम को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

मैनेजर काे जब शक हुआ ताे उन्हाेंने पटेल काे ईमेल किया और सारी जानकारी दी. उस पर पटेल ने जवाब दिया कि ऐसा काेई आरटीजीएस करने काे किसी काे नहीं कहा गया है, उसके बाद बैंक मैनेजर ने उसे करीब छह घंटे तक आरोपी को बैंक में डिटेन कर रखा. जांच के बाद रात नाै बजे गांधी मैदान थानेदार रंजीत वत्स काे काॅल कर बुलाया गया और पुलिस के हवाले किया गया. अभिषेक के लिखित बयान पर शुभम पर केस दर्ज किया गया.

पुलिस ने पूछताछ कर रविवार काे शुभम काे जेल भेज दिया. शुभम मूल रूप से जहानाबाद के शकुराबाद का रहने वाला है. एग्जीबिशन रोड में कोटक महिंद्रा बैंक में पटना जिला भू-अर्जन विभाग का सरकारी अकाउंट है.

शुभम ने इतना बड़ा फर्जीवाड़ा करने के लिए आरटीजीएस का तीन फार्म भरा था. यह रकम भू-अर्जन पदाधिकारी के सरकारी खाते से बाेरिंग राेड आईसीआईसीआई बैंक में एक निजी कंपनी बीएस इंटरप्राइजेज के खाते में ट्रांसफर करना चाह रहा था. उसने इसके लिए पटेल का आधार कार्ड लगाया, यही नहीं उसने एनएचएआई का लेटर हेड भी लगाया था, जिसमें लिखा हुआ था ओके टू प्राेसेस.

पंकज पटेल ने बताया कि मेरे पास ईमेल आया ताे मैं भी दंग रह गया. खाते की जांच कराई गई तो सब ठीक था. पंकज ने बताया कि जब किसी संस्था या एजेंसी काे भू-अर्जन पदाधिकारी के सरकारी खाते से रकम के लिए चेक दिया जाता है ताे उसमें पाने वाला का पूरा नाम, पता, खाता संख्या, एडवाइस समेत अन्य बातें लिखी जाती हैं. चेक लेकर काेई सरकारी स्टाफ जाता है. शुभम के पास ऐसा डिटेल नहीं था. उसके पास काेई चेक भी नहीं था ताे कैसे आरटीजीएस हाेता.

पटेल के मुताबिक उसने मेरा और बैंक मैनेजर का फर्जी साइन किया था. सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या शुभम काे इस बात की जानकारी नहीं थी कि बिना चेक के आटीजीएस नहीं हाेता है या फिर इस बात से अनजान था.

कहीं ऐसा ताे नहीं कि इसके पीछे काेई साइबर अपराधियाें का बड़ा सरगना है जिसने शुभम काे कुछ रुपए देकर काेटक महिंद्रा बैंक भेज दिया. साेमवार काे पुलिस जब बाेरिंग राेड स्थित बैंक जाएगी तब यह पता चलेगा कि हकीकत क्या है.

गांधी मैदान थानेदार रंजीत वत्स ने बताया कि पूछताछ के बाद शुभम काे रविवार काे जेल भेज दिया गया. पुलिस उसके पूरे गिराेह का सुराग लगाने में जुटी है. पुलिस बाेरिंग राेड स्थित बैंक भी जाएगी ताकि यह पता लग सके कि वहां किसका खाता है जहां रकम ट्रांसफर हाेने के लिए शुभम आरटीजीएस करने गया था.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button