3700 करोड़ की ऑनलाइन ठगी की आरोपी आयुषी मित्तल गिरफ्तार

7 लाख लोगों से 3700 करोड़ रुपये की ठगी के इस मामले में अनुभव के पिता सुनील मित्तल और उसकी पत्नी आयुषी को भी आरोपी बनाया गया है

3700 करोड़ की ऑनलाइन ठगी की आरोपी आयुषी मित्तल गिरफ्तार

नोएडा एसटीएफ और यूपी पुलिस की एसआईटी ने मंगलवार शाम पुणे में एक फ्लैट से 3700 करोड़ की ऑनलाइन ठगी की आरोपी आयुषी मित्तल को गिरफ्तार किया। आयुषी सोशल ट्रेड के नाम पर महाठगी करने वाले अनुभव मित्तल की पत्नी है। वह कानपुर की रहने वाली है। उसके खिलाफ गाजियाबाद कोर्ट से गैर जमानती वारंट जारी हुए थे।

7 लाख लोगों से 3700 करोड़ रुपये की ठगी के इस मामले में अनुभव के पिता सुनील मित्तल और उसकी पत्नी आयुषी को भी आरोपी बनाया गया है। आरोपी अनुभव को यूपी एसटीएफ ने 2 फरवरी, 2017 को ही गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद मई में सुनील मित्तल को गिरफ्तार किया गया।

मामले में कुछ बैंक कर्मचारी तथा अन्य निदेशकों की भी गिरफ्तारी हुई।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश एसटीएफ के पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्रा ने बताया ने बताया कि वर्ष 2017 से ही अनुभव मित्तल की पत्नी आयुषी अग्रवाल फरार थी। वह इस घोटाले में कई मुकदमों में वांछित थी। एक सूचना के आधार पर एसटीएफ ने उसे पुणे से गिरफ्तार किया। वह अपने रिश्तेदारों के यहां रह रही थी।

उन्होंने बताया कि एसटीएफ उसे पुणे से ट्रांजिट रिमांड पर नोएडा ला रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले में एसटीएफ ने कंपनी के खाते में जमा 650 करोड़ रुपया फ्रीज कर दिया है। कंपनी के निवेशकों की बारह करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का भी पता लगा है।

मई में हुई थी चार्जशीट दाखिल
एसटीएफ की विंग एसआईटी ने मई में इस मामले में एबलेज इंफो सोल्यूशन कंपनी के मालिक अनुभव मित्तल समेत छह लोगों के खिलाफ 37000 पेज की चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। आयुषी कंपनी की डायरेक्टर थी।

अनुभव मित्तल यूपी में हापुड़ के पिलखुआ कस्बे का रहने वाला है।

3700 करोड़ की ऑनलाइन ठगी करने वाला अनुभव मित्तल ऐसे चलाता था धंधा

ब्लेज इंफो सॉल्यूशंस की वेबसाइट पर आने वाले लिंक को ‘लाइक’ कर कमीशन मिलने के खेल में लाखों लोग फंसे थे। एनसीआर में ही इस कंपनी के तीन लाख से ज्यादा लोग फर्जीवाड़े के शिकार हुए हैं। कंपनी ने काफी कम समय में अपने खातों में मोटी रकम जमा कर ली थी। यह 3700 करोड़ रुपये की ठगी का मामला है।

एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक ने बताया कि कंपनी जल्दी-जल्दी अपने खातों को एक से दूसरे बैंक में बदलती रहती है। इस मामले में मास्टरमाइंड अनुभव मित्तल के पिता और कंपनी के पूर्व निदेशक सुनील मित्तल के अलावा अनुभव की पत्नी आयुषी अग्रवाल और एक अन्य सनी मेहता को भी नामजद किया गया है। इस कंपनी ने सोशल मीडिया ट्रेड के लिए अगस्त 2016 में काम शुरू किया था। उनकी वेबसाइट पर आने वाले लिंक को ऑनलाइन ‘लाइक’ करने का काम देखकर लाखों लोग इस काम में जुड़ते चले गए।

यही वजह है कि मात्र सात माह में 6.30 लाख लोग इस कंपनी में सीधे तौर पर सदस्य बन चुके हैं जबकि एसटीएफ को कंपनी में छापे के दौरान 9 लाख पहचान पत्र मिले हैं।

सदस्य के जुड़ते ही होता था दोगुना भुगतान

कंपनी हर लिंक को लाइक करने के मेहनताने के रूप में अपने सदस्य को पांच रुपये का भुगतान करती थी। उदाहरणत: किसी सदस्य ने यदि 57500 रुपये की सदस्यता ली है तो कंपनी उसे रोजाना 125 लिंक देती थी। इसके बाद यदि कोई सदस्य अपने नीचे दो सदस्य इतनी ही धनराशि देकर बनवाता था तो उसके लिंक दो गुने यानी रोजाना 250 के हो जाते थे। इतने लिंक लाइक करने पर रोजाना पांच रुपये के हिसाब से 1250 रुपये का भुगतान बनता था लेकिन कंपनी एडमिन चार्ज और टीडीएस काटने के बाद सदस्य के खाते में 1060 रुपये का भुगतान करती थी।

सीईओ की पत्नी पहली सदस्य बनी थी

सोशल ट्रेड डॉट बिज में श्रीधर की पत्नी ने 2016 में पहली सदस्यता ली थी। वह सीईओ की पत्नी हैं। प्लान समझने के लिए कई बार श्रीधर की मुलाकात भी अनुभव से हुई और छह माह पूर्व श्रीधर ने अनुभव की कंपनी को बतौर सीईओ सेवाएं देनी शुरू कर दी थी।

advt
Back to top button