आरएसएस मुख्यालय नागपुर में मनाया जा रहा विजयादशमी उत्सव

संघ के विजयादशमी उत्सव में नितिन, वीके, फडणवीस हुए शामिल

नागपुर:आज देश भर में दशहरा का पर्व बड़े उत्साह के साथ मनाया जाएगा. दशहरा असत्य पर सत्य की जीत का पर्व है. दशहरा को विजया दशमी के नाम से भी जाना जाता है.

वहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा अपने मुख्यालय नागपुर में विजयादशमी उत्सव मनाया जा रहा है. इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह और महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस शामिल हुए.

इस मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सुबह 7.40 पर शस्त्र पूजन किया. इससे पहले कार्यक्रम का प्रारंभ पथसंचलन सें हुआ. इस वर्ष के कार्यक्रम में शिव नाडर, अध्यक्ष एवं संस्थापक HCL, मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लिया.

RSS पर महापुरुषों के वचन

‘RSS के सामाजिक कार्यों में मैं राष्ट्रहित देख रहा हूं. व्यक्तिगत चरित्र ध्येय के प्रति प्रतिबद्धता है, इस कार्य में आपको सफलता न मिलने का प्रश्न ही नहीं उठता’ महात्मा गांधी

‘समाज को संगठित करने में संघ का बताया हुआ मार्ग सही है पर मैं राजनीति के क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ चुका हूं. इस समय आपके साथ चलना संभव नहीं है. क्षमा करें.’ सुभाषचंद्र बोस

‘लोग मुझे Royal Beggar कहकर बुलाते हैं. अगर आप चाहे तो, मैं संघ के लिए धन जुटाऊंगा.’ मदन मोहन मालवीय

‘मुझे आश्चर्य होता है यह देखकर कि यहां पर स्वयंसेवक किसी भी प्रकार के भेदभाव के बिना, किसी दूसरे की जाति जाने बगैर परस्पर भाईचारे से रह रहे हैं.’ डॉ. भीमराव आंबेडकर

‘आरएसएस के ऊपर दंगा और दहशतगर्दी का आरोप हैं, ये बिल्‍कुल बेबुनियाद है. परस्पर प्रेम, सौहार्द, संगठन ऐसे विचार, मुसलमानों को संघ से सीखना चाहिए.’ डॉ. जाकिर हुसैन

“मैं संघ का समर्थक हूं. अनुशासन, देशभक्ति और समाज सेवा के लिए यह संगठन जाना जाता है.” दलाई लामा

‘मेरी पार्टी का संघ के साथ वैचारिक मतभेद हो सकता है लेकिन जब देश संकट में हो तो हम सबको एकजुट होकर काम करना चाहिए ‘ पंडित जवाहर लाल नेहरू

संघ के स्वयंसेवकों की देशभक्ति किसी प्रधानमंत्री से कम नहीं है । अगर जनसंघ फासीवादी है तो मैं भी फासीवादी हूं. जय प्रकाश नारायण

संघ की स्थापना में कांग्रेस का रोल !

-संघ के संस्थापक डॉक्टर के बी हेडगेवार कांग्रेस के नेता बी एस मूंजे के शिष्य थे

-बी एस मूंजे, बाल गंगाधर तिलक के समर्थक कांग्रेसी नेता थे

-तिलक के निधन के बाद उनके समर्थक कांग्रेस में किनारे किए जाने लगे

-महात्मा गांधी ने मुस्लिमों के ख़िलाफ़त आंदोलन के समर्थन का एलान किया

-तब हिंदुओं को एकजुट करने के लिए डॉक्टर हेडगेवार ने RSS की स्थापना की

RSS मुस्लिमों के लिए क्या कर रहा है ?

मुस्लिमों को साथ जोड़ने के लिए संघ ने एक संगठन बनाया

साल 2002 में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच का गठन हुआ

संघ मुस्लिमों में आधुनिकता का प्रचार प्रसार चाहता है

मदरसे का आधुनिकीकरण संघ के एजेंडे में ऊपर है

संघ मुस्लिमों में धार्मिक कट्टरता का विरोध करता है

RSS इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ मुस्लिमों को जागरुक करता है

RSS ने ट्रिपल तलाक़ खत्म करने की वकालत की थी

देश पर संकट के समय RSS का योगदान

– 1962 भारत-चीन युद्ध के समय सीमा पर सैनिकों को रसद पहुंचाने में मदद

– 1965 भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय दिल्ली में ट्रैफिक संभालने की जिम्मेदारी

– 1967 में बिहार में अकाल के समय अकाल पीड़ितों की मदद की

Back to top button