विकास यात्रा :मुख्यमंत्री बोले- बस्तर में अब नहीं रहेगा अंधेरा

मुख्यमंत्री ने अंतागढ़ में 64.43 करोड़ के 125 विकास कार्यों का किया लोकार्पण और भूमिपूजन

रायपुर :मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज प्रदेशव्यापी विकास यात्रा के दौरान कांकेर जिले के अंतागढ़ पहुंचे। मुख्यमंत्री ने वहां आयोजित आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बस्तर में अब उजाला हो रहा है। हर गांव, मजरे-टोले और हर घर तक बिजली पहुंचाई जा रही है। अब यहां अंधेरा नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि बस्तर में रोड कनेक्टिविटी, बिजली और इंटरनेट कनेक्टिविटी बढ़ायी जा रही है। बस्तर अब एयर कनेक्टिविटी से भी जुड़ रहा है।

रेल कनेक्टिविटी भी बढ़ाई जा रही है। भानुप्रतापपुर तक रेल पहुंच चुकी है, वर्ष 2019 के अंत तक अंतागढ़ तक भी रेल पहुंच जाएगी। डॉ.सिंह ने कहा कि- इसके साथ ही साथ इस क्षेत्र में स्कूल, कॉलेज, आईटीआई, प्रयास विद्यालय सहित शिक्षा के कई कार्य किए गए हैं और विगत 15 वर्षों में सभी क्षेत्र में लोगों को आगे बढ़ाने का कार्य छत्तीसगढ़ की सरकार द्वारा किया गया है।

मुख्यमंत्री ने दिया आशीर्वाद
मुख्यमंत्री ने दिया आशीर्वाद

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर परलकोट के शहीद जमींदार गेंदसिंह, भूमकाल के प्रणेता शहीद गुण्डाधूर, पंडित विष्णु प्रसाद एवं संविधान सभा के सदस्य रहे रामप्रसाद पोटाई का स्मरण करते हुए कहा कि ये महापुरुष छत्तीसगढ़ के साथ ही देश-दुनिया के गौरव हैं। मुख्यमंत्री ने अंतागढ़ में मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत दाम्पत्य सूत्र में बंधे 247 नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया और उनके सुखमय जीवन की कामना की।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लगभग 64 करोड़ रुपए के विकास कार्यों की सौगात दी। उन्होंने इन कार्यो में से लगभग 3 करोड़ रुपए के 18 विकास कार्यों का लोकार्पण और 60 करोड़ 44 लाख रुपए के 107 विकास कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास किया। उन्होंने कार्यक्रम में हितग्राहियों को श्रम विभाग की ओर से 1100 सायकल, 344 औजार किट तथा 32 सिलाई मशीन, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 100 हितग्राहियों को रसोई घर कनेक्शन, राजस्व विभाग की ओर से 7871 आबादी पट्टा एवं 185 वन अधिकार पट्टा, कृषि विभाग की ओर से 590 किसानों को बीज मिनी किट, 90 किसानों को उड़ावनी पंखा, वन विभाग की ओर से 319 सायकल एवं आदिवासी विकास विभाग के माध्यम से 30 मिनी राईस मिल का वितरण किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि माई दंतेश्वरी से आशीर्वाद प्राप्त कर वे इस यात्रा पर दंतेवाड़ा से जनता का आशीर्वाद लेने निकले हैं। उन्होंने कहा कि जनता के आशीर्वाद के बिना यह विकास यात्रा अधूरी है। उन्होंने कहा कि पहले किसानों के धान को खरीदने के पहले पानी में डूबाकर देखा जाता था, किन्तु उनकी सरकार ने न केवल किसानों का धान खरीदा, बल्कि धान का बोनस भी दिया।

प्रदेश सरकार इस वर्ष 1700 करोड़ रुपए धान बोनस वितरित कर रही है। इसके साथ ही वनवासियों को तेंदूपत्ता संग्राहको को 700 करोड़ रुपए की बोनस राशि भी वितरित की जा रही है। उन्होंने कहा कि 2003 में तेंदूपत्ता का प्रति मानक बोरा संग्रहण दर मात्र 400 रुपए थी, जिसे शासन द्वारा समय-समय पर बढ़ाकर अब 2500 रुपए प्रति मानक बोरा तय किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में देश का सबसे पहला खाद्य सुरक्षा अधिनियम लागू किया और गरीब परिवारों को मात्र एक रुपए किलो में चावल उपलब्ध कराया जा रहा है। गरीब परिवारों को पांच रुपए किलो में चना और निःशुल्क नमक भी उपलब्ध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने गरीब परिवारों के इलाज की चिंता की। मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के अंतर्गत प्रदेश के सभी परिवारों को 50 हजार रुपए तक के इलाज की सुविधा दी जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राशन कार्ड और स्मार्ट कार्ड राज्य सरकार के दो क्रांतिकारी कदम हैं। राशन कार्ड से लोगों के भरपेट भोजन का इंतजाम हुआ और स्मार्ट कार्ड से उनके इलाज की व्यवस्था हुई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 6 लाख 40 हजार घरों से अंधेरा दूर करने के लिए योजनाबद्ध ढंग से विद्युतीकरण कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आगामी चार-पांच माह में कोई भी घर अंधेरे में नहीं रहेगा और हर पारा मोहल्ले तक शत-प्रतिशत घरों में विद्युतीकरण का कार्य कर दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उज्जवला योजना महिलाओं के लिए बहुत बड़ी योजना है, इस योजना में गरीब परिवार की महिलाओं को 200 रूपए के पंजीयन शुल्क पर रसोई गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गरीबों के पक्के घर का सपना भी प्रधानमंत्री आवास से पूरा हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र में पहले भय और आतंक का वातावरण था और पांच बजे के बाद बाजार बंद हो जाया करते थे, किन्तु अब यह स्थिति नहीं है। मुख्यमंत्री ने आयुष्मान भारत योजना को बहुत बड़ी योजना बताते हुए कहा कि इससे गंभीर बीमारियों का इलाज संभव होगा। इसमें गरीब परिवार को 5 लाख रुपए तक की सहायता उपचार के लिए मिलेगी। उन्होंने कहा कि भारत नेट और बस्तर नेट के माध्यम से लगभग 3000 करोड़ रुपए की लागत से इस क्षेत्र में इंटरनेट कनेक्टिविटी बढ़ाई जा रही है। सूचना क्रांति योजना में अब 50 लाख स्मार्टफोन निःशुल्क बांटे जाएंगे, जिससे जीवन आसान होगा।

आम सभा को लोक सभा सांसद विक्रम उसेण्डी और विधायक भोजराज नाग ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर वन मंत्री एवं कांकेर जिले के प्रभारी मंत्री महेश गागड़ा, आदिम जाति कल्याण मंत्री केदार कश्यप, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सुभद्रा सलाम, मंतुराम कश्यप, कमिश्नर दिलीप वासनीकर, आईजी विवेकानंद, कलेक्टर टामन सिंह सोनवानी, एसपी केएल ध्रुव, सहित अनेक जनप्रतिनिधि, अधिकारी-कर्मचारी एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

new jindal advt tree advt
Back to top button