विक्रम उसेंडी का कांग्रेस पर तंज,बोले -छोटे मन से बड़े नहीं हो सकते भूपेश

छोटी हरकतों ने कांग्रेस को मजाक बनाकर रख दिया

रायपुर: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने कुछेक कांग्रेस नेताओं द्वारा सोशल मीडिया में अपने प्रोफाइल पर मैं छोटा आदमी लिखने पर कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि छोटी सोच के साथ छोटी हरकतों ने कांग्रेस को मजाक बनाकर रख दिया है।

श्री उसेंडी ने कहा कि खुद को छोटा आदमी लिखकर कांग्रेस के लोग अपने दागदार राजनीतिक चरित्र से मुक्त नहीं हो सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सशक्त और राष्ट्रवादी नेतृत्व के आगे अपनी छोटी सोच से उपजी हरकतों से कांग्रेस के लोगों ने अपनी ही पार्टी के राजनीतिक कद को बौना कर दिया है। कभी पूरे देश में राज करने वाली कांग्रेस आज छोटे-छोटे क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन की गुहार लगा रही है, और विडंबना यह है कि शेष विपक्ष कांग्रेस का नेतृत्व तक स्वीकारने को तैयार नहीं है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के मैं भी चौकीदार की तर्ज पर कांग्रेस ने नकल तो की है, पर वे इस सच्चाई को नजरंदाज कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार व आतंकवाद के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर अपनी चौकीदारी को प्रामाणिकता के साथ ऊंचाई दी है और इसलिए उनके आह्वान पर देशभर में 40 करोड़ लोगों ने इस मुहिम से खुद को जोड़ा है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री उसेंडी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने उपलब्धियों व विकास के उच्चतम प्रतिमान स्थापित किए हैं, जिसके चलते कांग्रेस नेता कुंठित होकर सियासी नौटंकियां करते रहते हैं।कांग्रेस के लोगों को यह सत्य हजम नहीं हो रहा है कि भारतीय प्रधानमंत्री ने विश्व-पटल पर भारत को एक सशक्त व स्वाभिमानी राष्ट्र की पहचान दी और इसके चलते विश्व के सात देशों ने उन्हें अपने-अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान सियोल शांति पुरस्कार, ग्रैंड कॉलर पुरस्कार, चैंपियंस ऑफ अर्थ अवार्ड, आमिर अमानुल्लाह खान अवार्ड, दि किंग अब्दुल्ला अजीज साश अवार्ड, जायद पदक अवार्ड और ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्ररयू दि अपोस्टल से सम्मानित किया है। कांग्रेस के खानदानी प्रधानमंत्रियों ने तो अपने-अपने कार्यकाल में ही खुद को भारत रत्न से नवाजने का काम किया था।

कांग्रेस के लोग खुद को छोटा आदमी लिखकर चाहे जितनी सियासी लफ्फाजियां कर लें, वे चौकीदार की खिंची हुई लाइन से बड़ी अपनी लाइन खींचने का हुनर नहीं जानते। इसीलिए संवैधानिक मर्यादा को ताक पर रखते हुए कभी सवाल पूछकर तो कभी आईना भेजकर कांग्रेस के लोग अपनी छोटी सोच के साथ मसखरी और सियासी लफ्फाजियों से लोगों का ध्यान भटकाने का काम करते हैं। उसेंडी ने कहा कि भूपेश को अटल जी की पंक्ति स्मरण रखना चाहिए-छोटे मन से कोई बड़ी नहीं होता।

Back to top button