ग्रामीणों ने पटवारी पर किया हमला, नायब तहसीलदार के वाहन को किया क्षतिग्रस्त

गांधीनगर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियो के पहुंचने के बाद मामला शांत हो गया

अंबिकापुर:बिना पुलिस के बल के अवैध अतिक्रमण हटाने गांव पहुंचे राजस्व अमला पटवारी पर जिला मुख्यालय से लगे बडनी झरिया गांव के ग्रामीणो ने हमला कर दिया और नायब तहसीलदार के वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया है.

हालाकि इस घटना की सूचना पर पहुंची गांधीनगर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियो के पहुंचने के बाद मामला शांत हो गया लेकिन पूरी कार्यवाही के दौरान अंबिकापुर राजस्व अमले की कार्यवाही संदेह के दायरे मे हैं क्योकि एक तो पटवारी और नायब तहसीलदार बिना पुलिस बल के अतिक्रमण हटाने पहुचे और दूसरा असल अतिक्रमणकारियो को हटाने की जगह राजस्व अमले ने उस विशेष पीछडी जनजाति के पण्डो परिवार को बेदखल करने की कोशिश की जो वर्षो से इस वन्य ग्राम मे काबिज है.

अंबिकापुर एसडीएम न्यायालय ने कुछ दिन पहले अपने अधीनस्थ कर्मचारियो को अवैध कब्जे की शिकायत के बाद शहर से लगे बडनी झरिया गांव का सर्वे करने के निर्देश दिए थेऔर सर्वे होने तक गांव की जमीन पर किसी तरह के निर्माण और कागजी कार्यवाही पर स्टे लगा दिया था. जिसके बाद लगातार इस गांव मे सर्वे का काम चल रहा था.

इसी दौरान लॉक डाउन मे भू माफियाओ और वन्य ग्राम की जमीन के अवैध खरीददार काफी सक्रिय हो गए और लाक डाउन की आड मे घर बाउंड्री और अन्य निर्माण करने लगे जिसकी शिकायत पर एक बार फिर इलाके के पटवारी और नायब तहसीलदार आज गांव मे अवैध निर्माण तोडने की नियत से पहुंचे लेकिन तभी वहां की महिलाओ की अगुवाई मे पुरूषो ने पटवारी के साथ हाथापाई कर दी और नायब तहसीलदार के वाहन के टायर को पंचर कर दिया जिसकी सूचना पर एसडीएम प्रदीप साहू , सीएसपी एस एस पैकरा और गांधीनगर टीआई अनूप एक्का के साथ मौके पर पहुंचे और मामले को शांत कराया लेकिन हैरत की बात है कि इतना गंभीर घटना होने के बाद भी जब मीडिया ने पीडित पटवारी से उसकी राय जाननी चाही तो एसडीएम साहू ने मीडिया से कुछ बताने के लिए मना कर दिया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button