छत्तीसगढ़

विवेक तन्खा ने स्कूल के जीर्णोद्धार के लिए CM बघेल को लिखा पत्र

छह कमरे में 75 से ज्यादा स्टूडेंटस बैठते है।

रायपुर: छत्तीसगढ़ प्रदेश में 10 वीं टॉपर रही प्रज्ञा कश्यप के स्कूल की कहानी किसी से छिपी नहीं है। स्कूल में उचित व्यवस्था नहीं होने के बावजूद भी प्रदेश में सबसे अव्वल में रही है। छह कमरे में 75 से ज्यादा स्टूडेंटस बैठते है। इसके अलावा पहुंच मार्ग भी स्कूल के लिए नहीं है।

ऐसे में कांग्रेस विधि विभाग ने स्कूल की तस्वीर को बदलने का बीढ़ा उठाने जा रही है। कांग्रेस विधि विभाग के अध्यक्ष संदीप दुबे ने बताया कि 10 वीं में शत-प्रतिशत अंक हासिल करने वाली प्रज्ञा का स्कूल मुंगेली के जरहागांव में स्थित है। वहां पर स्कूल की अव्यवस्था को देखते हुए सुधार के लिए अधिवक्कताओं की टीम वहां पहुंची और जांच की। इसके बाद प्रतिवेदन बनाकर सांसद एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष विवेक तन्खा को सौंपा गया है,

विवेक तन्खा ने स्कूल के जीर्णोद्धार के लिए CM बघेल को लिखा पत्र

उन्होंने कहा है मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को समस्याओ से अवगत कराएँगे, संदीप दुबे के प्रयासों से शिक्षा मंत्री ने प्रयास शुरू कर दिए है और जिला शिक्षा अधिकारी से रिपोर्ट मंगवाई गयी है,

 

जूस पर शाला की प्राचार्य ने रिपोर्ट जिला शिक्षा अधिकारी को दी है, इस स्कूल में सबसे बड़ी कठिनाई यह है कि यहां पर एक क्लास 75 से अधिक स्टूडेंट है, स्कूल को 2011-12 में हाई स्कूल से हायर सेकेंडरी स्कूल बनाया गया, परन्तु सुविधा नहीं दी गयी, वाशरूम की कमी है, वहा पानी की सुविधा नहीं है, 2 पाली में स्कूल लगती है, लैब में बच्चो की क्लास लगायी जाती है, जिनके के लिए केवल छह रूम में है। ऐसे में उन्हें पढ़ाई करने में दिक्कतें हो रही है। इसके अलावा पीने के पानी की उचित व्यवस्था नहीं है। स्कूल तक पहुंचने के लिए मार्ग नहीं है। वहीं स्कूल के आसपास असामाजिक तत्वों का जमावाड़ा भी लगा रहता है। इसी सब व्यवस्थाओं को सुधारने की तैयारी की जा रही है।

विवेक तन्खा ने स्कूल के जीर्णोद्धार के लिए CM बघेल को लिखा पत्र

विवेक तन्खा ने प्रदेश अध्यक्ष से प्रतिवेदन प्राप्त करने के बाद,मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर स्कूल में सुधार करने कि पहल करने को कहा है

विवेक तन्खा ने स्कूल के जीर्णोद्धार के लिए CM बघेल को लिखा पत्र

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button