विस चुनाव में वीवीपीएटी मशीन का होगा इस्तेमाल, जानिए क्या है खास

रायपुर।

2018 विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही चुनाव अधिकारी तैयारी में जुट गए हैं। इस बार मतदाताओं से लेकर उम्मीदवारों को कई सुविधाएं केवल मोबाइल पर ही उपलब्ध होंगी। चुनाव में भ्रष्टाचार और गड़बड़ियों को रोकने कई नए प्रयोग करने की तैयारी में है यह जानकारी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने मीडिया से बातचीत के दौरान दी।

चुनाव अधिकारी ने बताया कि इस बार छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में वीवीपीएटी (वोटर वेरिफाईड पेपर आॅडिट ट्रायल) मशीन का इस्तेमाल होगा। यह मशीन मतदाताओं को यह बताएगा कि उनके द्वारा किया जा रहा मतदान किस प्रत्याशी को जा रहा है। इसके बाद मतदाता ओके करेगा तब मतदान की प्रक्रिया पूरी होगी।

मतदाता को अगर यह दिखता है कि उसके द्वारा किया जा रहा मतदान किसी अन्य प्रत्याशी को जा रहा है तो वह इसकी शिकायत कर सकेगा। चुनाव के लिए ईवीएम लागू होने के बाद अब तक मतदाता मतदान केंद्र में पहुंचने के बाद मतदान करता था। भले ही मतदाता ईव्हीएम में संबंधित प्रत्याशी के चुनाव चिन्ह के सामने बटन को दबाता था, लेकिन उसको दिखता नहीं था कि उसका मतदान उसी प्रत्याशी को जा रहा है या नहीं अब यह दिखने लगेगा।

इसके लिए हर मतदान केंद्र में एक अतिरिक्त मशीन वीवीपीएटी ईवीएम के साथ लगेगी। जिसके स्क्रीन में यह दिखेगा कि किसको मतदान हो रहा है। यह सिर्फ मतदाता ही देख पाएगा।

– 27 सितंबर को होगा मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन

चुनाव अधिकारी ने बताया कि मतदाता सूची का द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण अभियान 31 जुलाई से शुरू होकर 21 अगस्त तक चलेगा। इस दौरान मतदान केंद्रों में दावा आपत्ति ली जाएगी और उनका निराकरण 20 सितंबर तक किया जाएगा। मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 27 सितंबर को होगा।

– रोचक तथ्य

– छत्तीसगढ़ में कुल 18152143 मतदाता
– कसडोल विधानसभा में सबसे अधिक 325958 मतदाता
– मनेंद्रगढ़ विधानसभा में सबसे कम 129871 मतदाता
– राज्य में 100 साल से अधिक उम्र के मतदाताओं की संख्या 3630
– थर्ड जेंडर के कुल 810 मतदाता

Back to top button