मैच रैफरी ने वांडर्रस की पिच को बताया ‘खराब’, लग सकता है एक साल का बैन

मैच रैफरी द्वारा पिच को खराब करार दिए जाने के बाद अब वांडर्रस मैदान को तीन 'डिमोरिट प्वाइंट' मिले हैं

मैच रैफरी ने वांडर्रस की पिच को बताया ‘खराब’, लग सकता है एक साल का बैन

टीम इंडिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच वांडरर्स में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच की पिच को आईसीसी मैच रेफरी एंडी पाइक्रॉफ्ट ने ‘खराब’ करार दिया है। बता दें कि मैच का तीसरा दिन खराब पिच की वजह से समय से पहले ही रोक दिया गया था।
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं चाहते तो क्लिक करे और सुने”]
दरअसल तीसरे दिन जसप्रीत बुमराह की एक गेंद डीन एल्गर की हेलमेट में जा लगती है, जिसके बाद अंपायरों ने खेल को रोक दिया था। तब से ही इस बात का अंदेशा जताया जा रहा था कि हो सकता है मैच को खराब पिच की वजह से आगे नहीं खेला जाएगा, लेकिन चौथे दिन मैच हुआ और टीम इंडिया इसे 63 रन से जीतने में कामयाब रहती है।

वांडरर्स की पिच पर कई बार खिलाड़ी असमान्य उछाल के कारण घायल हुए थे। इस दौरान कई बार अंपायर्स आपस में बातचीत करते हुए दिखाई दिए। अंपायरों ने टीम इंडिया के बल्लेबाजों को न खेलने की सलाह दी थी, लेकिन भारतीय बल्लेबाज अपना खेल जारी रखते हैं।

मैच रैफरी द्वारा पिच को खराब करार दिए जाने के बाद अब वांडर्रस मैदान को तीन ‘डिमोरिट प्वाइंट’ मिले हैं, यह प्वाइंट वांडर्रस पर 5 साल तक जारी रहेगा। हालांकि इस मैदान पर इंटरनेशल मैचों का आयोजन होता रहेगा, लेकिन इस मैदान को ‘रेड जोन’ में रखा जाएगा।

अगर अगले 5 साल में इस पिच ने दो और डिमेरिट प्वाइंट पा लिए तो आईसीसी इस पर एक साल का बैन लगा सकती है। पाइक्रॉफ्ट के रिपोर्ट की एक कॉपी क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका को भी भेजी गई है। इसमें उन्होंने कहा, अंतिम टेस्ट मैच के लिए जो पिच तैयार की गई वह खराब थी। इसमें अनिश्चित उछाल और बहुत अधिक सीम मूवमेंट था।

1
Back to top button