भारत-पुर्तगाल के बीच 4 मिलियन यूरो के फंड समेत हुए 17 बड़े समझौतों पर हुए दस्तख्त

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी तीन देशों की यात्रा के पहले चरण में शनिवार को पुर्तगाल पहुंचे। लिस्बन में उन्होंने अपने पुर्तगाली प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा के साथ द्विपक्षीय संबंधों को और घनिष्ठ बनाने पर चर्चा की। दोनों देशों के बीच कराधान, विज्ञान, युवा मामलों एवं खेलों को लेकर समझौते हुए हैं।
संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा कि भारत और पुर्तगाल चार मिलियन यूरो से एक विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कोष बनाएंगे। दोनों देशों ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में आपसी सहयोग बढ़ाने पर सहमति जताई है। पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की दावेदारी का समर्थन करने और बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था में नई दिल्ली का समर्थन करने के लिए पुर्तगाल का धन्यवाद दिया।

मोदी ने कहा कि उनका यह संक्षिप्त दौरा भारत एवं पुर्तगाल के संबंधों को और मजबूती देगा। इस मुलाकात के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने एक ट्वीट कर कहा, द्विपक्षीय मेलजोल को आगे बढ़ाया गया। दोनों नेताओं ने आगे भी संबंधों को और गहरा बनाने के उपायों पर चर्चा की। बागले ने कहा कि द्विपक्षीय दौरे पर पुर्तगाल आने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं।

इससे पहले, प्रोटोकॉल तोड़ते हुए पुर्तगाल के विदेश मंत्री अगुस्तो सैंटोस सिल्वा ने लिस्बन एयरपोर्ट पर पीएम मोदी की अगवानी की। लिस्बन रवाना होने से पहले पीएम मोदी ने कहा था कि प्रधानमंत्री कोस्टा के साथ उनकी मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच हाल की सामूहिक पहलों में हुई प्रगति और फैसलों की समीक्षा की जाएगी।

वहीं पुर्तगाली पीएम कोस्टा ने ट्वीट कर कहा कि यह उनकी हाल की भारत यात्रा के दौरान हुए समझौते के क्रियान्वयन की समीक्षा और नए समझौतों पर आगे बढ़ने का उचित अवसर है। पीएम कोस्टा ने इस साल जनवरी में भारत का दौरा किया था। कोस्टा आशिंक रूप से भारतीय मूल के हैं। उनके पूर्वज गोवा में रहा करते थे।

भारतीय मूल के कोस्टा ने मोदी के लिए की गुजराती भोज की मेजबानी
पुर्तगाली प्रधानमंत्री ने उस समय सबको आश्चर्यचकित कर दिया जब उनकी ओर से पीएम मोदी के सम्मान में आयोजित दोपहर के भोज में शुद्ध शाकाहारी गुजराती भोजन परोसा गया। इसमें ‘आखू शाक’ और ‘आम श्रीखंड’ शामिल था। इसके अलावा ‘साग कोफ्ता, राजमा मकई, तड़का दाल, केसर चावल, परांठा, रोटली, पापड़, गुलाब जामुन’ और अन्य मीठे व्यंजन शामिल थे।

Back to top button