प्रबंधन के सौतेले व्यवहार की समस्या से जूझ रहे कर्मचारियों के लिए हम उग्र आंदोलन करेंगे और उनकी ईट से ईट बजा देंगें : आलोक पांडेय

छ.ग. असंगठित कामगार और कर्मचारी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष आलोक पांडेय ने हिन्डाल्को कोलमाइंस प्रबंधन के खिलाफ आंदोलन की दी चेतावनी।

व्यवस्था सुधारने 25 दिसंबर तक हिन्डाल्को प्रबंधन को दिया अल्टीमेटम.

रायपुर। रायगढ़ स्थित हिन्डाल्को कोलमाइंस प्रबंधन के मनमानी को झेल रहे कर्मचारियों और मजदूरों की छत्तीसगढ़ असंगठित कामगार और कर्मचारी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष आलोक पांडेय ने सुध ली है।

हिन्डाल्को प्रबंधन को अपनी मनमानी रोकने और व्यवस्था को सुधारने के लिए 25 दिसंबर तक अल्टीमेटम दिया गया है उसके उपरांत आलोक पांडेय ने प्रबंधन के खिलाफ उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत 3-4 वर्षों से हिन्डाल्को प्रबंधन द्वारा कर्मचारियों को निकालने का क्रम जारी है आलोक पांडेय ने बताया कि श्रमिक और कर्मचारी हित में जब उग्र आंदोलन किया गया तब जाकर श्रमिकों को वापसी हुई।

पांडेय ने बताया

पांडेय ने बताया कि प्रबंधन द्वारा निकाले गये श्रमिक और कर्मचारियों की वापसी होने के बाद से ही उन्हें तरह-तरह की मानसिक प्रताड़ना दी जा रही है उन कर्मचारियों को अलग-अलग तरह से प्रताड़ित किया जा रहा है उन्हें झूठे मामले में फंसाया जाता है उनकी बिजली काट दी जाती है तथा अन्य कई प्रकार से उनके साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है।

हिन्डाल्को प्रबंधक द्वारा कर्मचारियों को दिए जाने बेसिक वाला वेतन भी कम मिलने की शिकायत है। छत्तीसगढ़ असंगठित कामगार और कर्मचारी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष आलोक पांडेय ने हिन्डाल्को प्रबंधन को चेतावनी देते हुए कहा है कि कर्मचारियों के साथ प्रबंधन अपना व्यवहार ठीक कर ले वरना उग्र आंदोलन करके उनकी ईट से ईट बजा देगें। आलोक पांडे ने जिला प्रशासन से आंदोलन के दौरान आमरण अनशन की अनुमति मांगी है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button