गरियाबंद जिले में वजन त्यौहार का आयोजन 20 फरवरी तक  

तामेश्वर साहू:

गरियाबंद: महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा 11 से 20 फरवरी 2019 तक जिले के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में शून्य से 5 वर्ष के बच्चों का वजन त्यौहार आयोजित किया जा रहा है। राज्य में वजन त्यौहार की शुरूवात 6 जून 2012 से की गई थी।

उसके पश्चात् प्रतिवर्ष एक निर्धारित अवधि में विभाग द्वारा इसका आयोजन कर बच्चों के पोषण का स्तर जन समुदाय को बताने का प्रयास किया जा रहा है। बच्चों के पोषण स्तर के आधार पर विभाग द्वारा कुपोषण दूर करने प्रचलित योजनाओं के साथ नवाचार योजना भी चलाने का प्रयास किया जाता है।

ग्राम सेमराडीह में मनाया गया वजन त्यौहार

गरियाबंद जिले के रोहिना पंचायत के आश्रित ग्राम सेमराडीह में 13 फरवरी को केंद्र क्रमांक 1,2 में वजन त्यौहार मनाया गया। जिसमें कौंदकेरा आँगन बाड़ी क्र.07 के पार्वती कुर्रे, रामनगर से उषा कवर और सेमराडीह आँगन बाड़ी क्र.01, 02 से कालेन्द्रि यादव, देवनंदनी साहू उपस्तिथ थे।

पिछले वर्ष के अनुसार कुपोषण का स्तर इस वर्ष घटते क्रम है। इस वर्ष जिले के सभी बच्चों का वजन इलेक्ट्रॉनिक मशीन द्वारा लिया गया है। बच्चों के वजन के साथ ही उनकी उंचाई भी मापी गई, जिसके आधार पर जिले में बच्चों के बौनापन तथा दुर्बलता का भी प्रतिशत ज्ञात हो सकेगा।

इस वर्ष 11 से 18 वर्ष के शाला त्यागी किशोरी बालिकाओं को इस अभियान में शामिल कर हीमोग्लोबिन टेस्ट एवं बीएमआई अर्थात् बॉडी मॉस इन्डेक्श भी ज्ञात किया जाएगा जो एनीमिया उन्मूलन के लिए आवश्यक कार्य-योजना बनाने में मददगार साबित होगा।

जिले में वजन त्यौहार एवं इसके आंकड़ो की पारदर्शिता बनाए रखने हेतु कलेक्टर श्याम धावड़े द्वारा विभिन्न विभागों के अधिकारियों एवं क्षेत्र प्रभारियों को पत्र जारी कर क्षेत्र अंतर्गत आने वाले प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं। जन त्यौहार हेतु विभिन्न सेक्टरों को छोटे-छोटे कलस्टर में विभक्त किया गया है तथा इन कलस्टरों के लिए वजन त्यौहार की तिथि अलग-अलग निर्धारित की गई है।

वजन त्यौहार की एन्ट्री के लिए विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है, जिसमें बच्चों का वजन कोई भी व्यक्ति इस साफ्टवेयर को खोलकर जिले के बच्चों के पोषण स्तर की जानकारी प्राप्त कर सकेगा। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं जिले के सभी सरपंच, सचिव, एवं पार्षदों से वजन त्यौहार में आवश्यक सहायोग प्रदान करने का आग्रह किया है। 

Back to top button