एटीएम खाली क्या चुनाव जिम्मेदार ?

-रीजु अप्पू

चार राज्यों कर्नाटक, राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ में चुनाव दिसम्बर तक होने हैं। जिसमें से कर्नाटक में अगले ही महिने चुनाव है। देश के कई राज्यों में एटीएम में कैश की कमी है, एटीएम कई दिनों से खाली है। दो हजार के नोट तो जैसे गायब ही हो गए हैं।

इन सब का कायास यह लगाया जा रहा है कि कर्नाटक में अगले महिने चुनाव है इसलिए बी.जे.पी. सारा कैश वहां भिजवा रही है, इसलिए कैश की इतनी किल्लत है। किन्तु जानकारों का यह कहना है कि चुनाव पहले भी हुए है और बाकि तीन राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ व राजस्थान में भी चुनाव आने वाले दिसम्बर तक होने है। इन राज्यों में भी कैश की कमी देखी जा रही है, तो फिर देखा जाए तो इन राज्यों में एटीएम खाली नही होने चाहिए थे।

कुछ जानकारों का यह मानना है कि किसानों को फसलों की रकम देने के चलते कैश की किल्लत है, तो कुछ का कहना है कि अक्षय तृतीया के कारण ऐसा हो रहा है। देखा जाए तो कारण कुछ और ही है क्योकि अगर किसानों को फसल की कीमत दी जा रही है तो किसान वापस उसे खर्च भी बाजार में ही करेगा तथा अक्षय तृतीया पर यदि खरीद फरोख्त होती है तो भी वापस पैसा बैंकों में ही आएगा।

इसके लिए चुनावों को दोष देना गलत है। हाँ यह सही है कि चुनावों में कैश लगता है किन्तु आज से पहले भी चुनाव हुए है तब कभी कैश की कमी महसूस नही हुई। कुलमिलाकर एटीएम के खाली होने को राजनैतिक रंग ना देकर आर्थिक मंदी का रूप देना सही होगा।

Back to top button